रायगढ़ नगर निगम के लिए मुसीबत बना अमृत मिशन

ऋषिकेश मुखर्जी:

रायगढ़: शहर की सरकार(नगर पालिक निगम) के काम करने के तरीकों से आप यह अंदाजा लगा सकते है,कि उन्हें नगरवासियों के प्रति अपनी जिम्मेदारियों का कितना एहसास रहता है। वर्तमान में रायगढ़ नगरपालिक निगम के द्वारा शहर के लगभग सभी वार्डों में अमृत मिशन नाम की एक योजना लाई जा रही है। जिसके अंतर्गत इन वार्डों में पाइप लाइन बिछाया जा रहा है।

वहीं अमृत मिशन के अंतर्गत काम करने वाले सम्बन्धित ठेकेदारों और जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही और भर्राशाही भी खुल कर सामने आ रही है। पाइप लाइन बिछाए जाने के दौरान बेतरतीब ढंग से अधिकांश वार्डों की सड़कों को न केवल अमानक ढंग से बल्कि उटपटांग तरीकों से खोद कर पाइप लाइन डाली गई है।

जिसकी वजह से वार्डो/गलियों की अच्छी खासी सड़कें खोद दी गई है। जिससे वार्डवासियों को आवागमन के काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बल्कि कई वार्डों में अमृत मिशन के अंतर्गत काम पूरा कर दिए जाने के बाद भी निगम ठेकेदारों के द्वारा खोदी गई सड़को ढंग से भरा नही गया है।

जिससे वहां रह रहे लोगों को आने-जाने में काफी परेशानियों का सामना भी करना पड़ रहा है। जबकि बेढंग खुदाई और अमानक भराई से खस्ता हाल हुई वार्ड/गली की यह सड़के के हादसों का सबब बन रही है। अमृत मिशन की भर्राशाही से जुड़ा ताज़ा मामला वार्ड क्रमांक 16 शर्मा गली से सामने आया है।

जिसमें स्थानीय वार्ड वासियों ने निगम ठेकेदार के द्वारा की गई उट-पटांग खुदाई से तीन दिन तक लगातार परेशान होने के बाद घण्टों अमृत मिशन का काम रोक दिया था। उनकी मांग थी कि या तो कार्यस्थल पर निगम का कोई जिम्मेदार अधिकारी आये या मीडिया के माध्यम से उनकी परेशानियों को उठाया जाए तभी वो काम होने देंगे।

अमृत मिशन की बेढंगी खुदाई से टापू बनी वार्ड 16 की शर्मा गली

इधर शर्मा गली कोतरा रोड के निवासियों की सूचना पर वहां पहुंचे मीडियाकर्मियों ने पाया कि अमृत मिशन के अंतर्गत काम करने वाले ठेका-कर्मियों ने तीन तरफ से आने वाली गली की सभी सीमेंट सड़कों को ऐसे उट-पटांग खोद दिया है कि गली में रहने वाले करीब 3 सौ लोगों का बीते तीन से घर से निकलना तक मुश्किल हो गया है।

वही सड़क की बेतरतीब खुदाई से कई बुजुर्ग, महिलाएं और बच्चे हादसे का शिकार हो चुके हैं। मुहल्ले-वासियों ने इस सम्बंध में कार्यरत निगम ठेका कम्पनी से लेकर निगम आयुक्त तक को जानकारी दी, परन्तु उनकी बात नही सुनी गई। उन्होंने ठेका कम्पनी के सुरवाईजर को भी कई बार चेताया कि वो या तो काम ढंग से करे या काम बंद करे।

परन्तुं उसने उनकी बात यह कहते हुए अनसुनी कर दी कि आप लोग सरकारी काम में बाधा डाल रहे हो जो सही नही है। अंततः अपनी परेशानी और निगम की गैरजिम्मेदारी बढ़ते देख कर स्थानीय लोगों ने कार्यरत मजदूरों और सुपरवाईजर से काम बन्द करने को कहा।

करीब दो से तीन घण्टे काम रोके जाने के बीच शहर में किसी ने अफवाह उड़ा दी कि कोतरा रोड शर्मा गली में नाराज मुहल्लेवालों के द्वारा कुछ ठेका कर्मियों को बंधक बना लिया गया है । यद्यपि कार्यस्थल पर पुहंचने के बाद मिली जानकारी के अनुसार अपहरण की बात सरासर झूठी निकली जबकि काम रोके जाने के जायज कारणों को मीडिया ने सही पाया।

अमानक खुदाई और मनमानियां चरम पर देख कर भड़के लोग

शर्मा गली के निवासियों के सांथ प्राथमिक अवलोकन के दौरना मीडिया ने पाया कि वास्तव में पूरे मुहल्ले की सड़कों का हाल बुरा हो रखा है। गली के दर्जनों घरों में लोग सड़क खोदे जाने के कारण अपने ही घर में तीन दिन से कैदी की तरह रह रहे हैं। गली में स्कूटर मोटरसाइकल लाना तो दूर पैदल चलना दूभर हो रखा है।

कई घरों के मुख्य दरवाजे के ठीक सामने सड़क खोदे जाने से लोग गड्ढों में गिर चुके है। हालांकि हादसे के शिकार हुए लोगो में एक वृद्ध महिला,एक बुजुर्ग और एक करीब 10 साल का बच्चा ही मीडिया के सामने आया। जबकि लोगो की माने तो उनकी संख्या आधा दर्जन से अधिक हैं।

अमृत मिशन के अंतर्गत करवाये जा रहे काम मे व्यापक अनियमितता

इधर शर्मा गली निवासी अधिवक्ता सुनील शर्मा ने बताया कि पहले तो अमृत मिशन के अंतर्गत करवाये जा रहे काम मे व्यापक अनियमितता है। मानक स्तर पर करीब एक मीटर गड्डा खोदकर कर उसमें पाइप लाइन डाला जाने चाहिए था। वहीं गली की सड़कों का उचित नाप जोक के बाद खुदाई की जानी थी, ताकि गली की अच्छी सड़क को अधिक नुकसान न हो न ही यहां रहने वालों को कोई समःया हो।

परन्तु कार्य करने वाले ठेकेदार और उसके कर्मी तीन तीन पहले रात में अचानक अपने संसाधनों के सांथ आए और जैसा मन आया गली की सड़कों में वैसा गड्डा खोद दिया। अब तीन दिन बाद उन गड्ढों को या तो यह कहकर पाट रहे है कि उन्होंने काम खत्म कर दिया है या उनके मालिक का कहना है गड्ढे पहले पाट लो।

अब आप देखिए जिन जगहों पर काम पूरा होना बताकर इन्होंने गड्ढे पाटे हैं वहां पाइप लाइन डली ही नही है। परन्तु अच्छी खासी गली कि सड़क का सत्यानाश कर दिया है। ऊपर से हमारी तकलीफ को लेकर न तो वार्ड पार्षद को न ही निगम अधिकारियों को लेना देना है। अब ऐसी स्थिति में काम रोका जाना हमारी मजबूरी है।.

मीडिया कर्मियों की उपस्थिति में पहुंचा निगम अमले का सब इंजीनियर

शर्मा गली में रह रहे नाराज स्थानीय लोगो के द्वारा कार्यस्थल पर मीडिया कर्मियों को बुलाये जाने और काम रोकने की सूचना पर घण्टों बाद शाम करीब 4 बजे निगम अमले का सब इंजीनियर शर्मा गली कोतरा रोड आया उसने बताया कि वह निगम आयुक्त के निर्देश पर यहां आया है।

ठेकेदार के द्वारा गली में किये जा रहे काम को लेकर उसने कहा कि निश्चित तौर पर काम को निरन्तरता से न किया जाने ठेकेदार की गलती है। परन्तु जल्दी हो इस गलती को सुधार लिया जाएगा। आमतौर पर बेहद सकरी गलियों में काम के दौरान ऐसी परेशानियां सामने आती है।

शहर के अधिकांश वार्डों में अमृत मिशन के नाम पर जमकर भर्राशाही

बहरहाल कोतरा रोड शर्मा गली के अलावा अमृत मिशन के अंतर्गत निगम प्रशासन के द्वारा अन्य वार्डों में करवाये गए कार्यों में निश्चित तौर पर गम्भीर लापरवाहियां बरती गई है। मिशन के अंतर्गत बिछाए जाने वाले पाइप लाइन के लिए सड़कों पर बेतरतीब ढंग से गड्ढे खोदे गए है।

कई जगहों में काम खत्म हो जाने के महीनों बाद भी सड़कों में खोदे गए गड्ढे नही भरे गए। जबकि शर्मा गली की तरह के वार्डों में पहले तो उटपटांग खोदाई कर गली की सड़कों का सत्यानाश किया गया,बाद में कई स्थानों में बिना पाइप लाइन डाले ही जैसे -तैसे गड्ढे भर दिए गए।

आज आलम यह है कि इन सड़कों में वाहनों से गुजरना तो दूर पैदल चलना भी दूभर हो गया है। हालांकि अमृत मिशन की धांधलियों/लापरवाही का विरोध करने का साहस अब तक सिर्फ शर्मा गली वार्ड क्रमांक 16 कोतरा रोड के जागरूक लोगों ने किया है। उनके इस प्रयास से न केवल निगम प्रशासन की नींद से जगा है बल्कि दूसरे पीड़ित वार्ड के लोग भी सतर्क हो गए है।

उनके द्वारा उनके क्षेत्र में अमृत मिशन के अंतर्गत करवाये गए कार्य को लेकर जांच करवाएं जाने की मांग सामने आने लगी है। जबकि ठेकेदारों के द्वारा सड़क की बेतररीब खुदाई कर उसकी अमानक पटाई करने से भी लोग नाराज हैं। शर्मा गली की तर्ज पर विरोध की बात अब बोईरदादर बैंक कालोनी,सोनू मुडा,हड्डी गोदाम, वार्ड क्रमांक 34 सरई भद्दर के अलावा अन्य क्षेत्रों से सामने आने लगी है।

Back to top button