रायगढ़: पटवारी ने तहसीलदार का फर्जी दस्तखत कर बनाएं 12 हितग्राहियों के जमीन के पट्टे, जानते हैं क्या है पूरा मामला

रायगढ़. अब पटवारी द्वारा तहसीलदार के फर्जी हस्ताक्षर करके आवेदन का निराकरण करने का बड़ा मामला प्रकाश में आया है। इस आशय का वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। बताया जाता है कि कोल् ब्लॉक के जमीन के नामांतरण के एवज में पटवारी द्वारा मोटी रकम लेकर तहसीलदार का फर्जी हस्ताक्षर कर दिया। तहसीलदार द्वारा फटकार लगाने पर वह ऑडियो में स्वीकार भी करता नजर आ रहा है।

बताया जा रहा है कि कोल माइनिंग वेक इस क्षेत्र की जमीन एक कम्पनी के कोल ब्लॉक में जाने वाली है। यहां जमीन के भू स्वामी द्वारा अपने-अपने खाता को अपडेट कराया जा रहा है। ऐसे में यहां के पटवारी जितेंद्र पन्ना द्वारा किसान किताब में तहसीलदार टीआर कश्यप के फर्जी हस्ताक्षर कर किसान किताब जारी कर दिया गया है। इस मामले में तहसीलदार कश्यप ने पूरे मामले की शिकायत कलेक्टर से भी किया है।

तमनार तहसीलदार टीआर कश्यप ने बताया है कि जितेंद्र पन्ना पटवारी हल्का नंबर 14 के द्वारा किसान किताब में तहसीलदार का फर्जी हस्ताक्षर कर किसानों को किसान किताब देने के मामले में उनके विरुद्ध उचित कार्रवाई करने व एफ आई आर दर्ज कराने की अनुमति बाबत कलेक्टर भू अभिलेख शाखा रायगढ़ शिकायत भी किया गया है।

इस मामले में पटवारी का कहना है कि मेरे द्वारा फर्जी हस्ताक्षर नहीं किया गया है तहसीलदार साहब से मेरी नहीं जमती है इसलिए उन्होंने यह मामला बनाया है। हालांकि ऑडियो में पटवारी द्वारा फर्जी हस्ताक्षर की बात स्वीकार भी की गई है। कहा जा रहा है कि इस तरह के कई और फर्जी हस्ताक्षर किए गए हैं जिसका जांच किए जाने पर बड़ा फर्जीवाड़ा का खुलासा हो सकता है।
पटवारी का कथित ऑडियो वायरल

इस मामले में पटवारी का कथित ऑडियो वायरल हुआ है। इस ऑडियो में तहसीलदार पटवारी जितेंद्र से बात करते हुए कहते हैं कि उन्होंने दबाव में आकर इस पर फर्जी हस्ताक्षर किए तहसीलदार द्वारा पूछे जाने पर उन्होंने नेहरू चौधरी द्वारा दबाव बनाना बताया।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button