रायगढ़ : जोबी में महिलाओं को फलों से जेम, जेली व केचप तैयार करने का दिया गया प्रशिक्षण

महिला स्व-सहायता समूह के प्रभा डड़सेना तथा भुनेश्वरी सिदार ने कहा कि यह प्रशिक्षण का अनुभव उनके लिए बहुत अच्छा रहा तथा उन्हें नई चीजें सीखने को मिली।

रायगढ़, 21 मार्च2021 : उद्यानिकी विभाग एवं राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन विभाग के माध्यम से 15 से 20 मार्च 2021 तक मल्टी एक्टिविटी सेंटर जोबी, विकासखंड खरसिया में उद्यानिकी फसलों के प्रसंस्करण से संबंधित छह दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। जिसमें महिला स्व-सहायता समूहों के 40 सदस्यों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया।

प्रशिक्षण में उद्यानिकी फसल जैसे आम, संतरा, टमाटर, लौकी, सेब, अमरूद, महुआ के विभिन्न प्रसंस्कृत उत्पाद जेम, जेली, बर्फी, अचार, केचप, आम पना, स्क्वैश इत्यादि 15 उत्पाद बनाने का प्रशिक्षण प्रशिक्षक परदेसी महानंद (सेवानिवृत्त) प्रशिक्षक, फल परिरक्षण एवं प्रशिक्षण केन्द्र रायपुर द्वारा दिया गया।

भुनेश्वरी सिदार ने कहा 

महिला स्व-सहायता समूह के प्रभा डड़सेना तथा भुनेश्वरी सिदार ने कहा कि यह प्रशिक्षण का अनुभव उनके लिए बहुत अच्छा रहा तथा उन्हें नई चीजें सीखने को मिली। आगामी दिनों में मल्टी एक्टिविटी सेंटर गोठान ग्राम जोबी में प्रसंस्कृत उत्पाद बनाने के कार्य को बढ़ाएंगे।

ज्ञात है कि राज्य शासन विशेष तौर पर उद्यानिकी फसलों के उत्पाद के साथ-साथ उनके प्रसंस्करण पर भी विशेष ध्यान दे रही हैं। प्रसंस्करण के माध्यम से फसल कटाई पश्चात होने वाले नुकसान को भी कम करते हुए अतिरिक्त आय प्राप्त की जा सकती है। इस दिशा में कदम बढ़ाते हुए यह प्रशिक्षण आयोजित किया गया।

इस छह दिवसीय प्रशिक्षण में जिला पंचायत अध्यक्ष निराकार पटेल, डीडीसी आकाश मिश्रा, डीडीसी अवध राम पटेल, डीडीसी श्रीमती संतोषी राठिया, सीईओ जनपद खरसिया अरुण सोम द्वारा भी प्रशिक्षण कार्यक्रम का अवलोकन किया गया तथा प्रशिक्षणार्थियों का उत्साहवर्धन करते हुए मार्गदर्शन भी दिया गया। प्रशिक्षण में उद्यानिकी विभाग की ओर से आर.एस.तोमर, वरिष्ठ उद्यान विकास अधिकारी,राजाप्रताप साय, ग्रामीण उद्यान विकास अधिकारी तथा एनआरएलएम की ओर से टिकेश्वरी नायक, बीपीएम एवं रुपेश कुमार एरिया कोऑर्डिनेटर उपस्थित थे।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button