दशहरा, दीवाली और छठ पूजा पर रेलवे चलायेगी 40 जोड़ी स्पेशन ट्रेनें, नहीं होगी परेशानी

नयी दिल्ली. दशहरा, दीवाली और छठ पूजा करीब आ रहे हैं. त्योहारों में अगर आप भी कहीं जाने का मन बना रहे हैं तो रेलवे आपकी परेशानी को कम करने का उपाय लेकर आया है. भारतीय रेलवे ने त्योहारों पर करीब 40 जोड़ी स्पेशल ट्रेनें चलाने का एलान किया है. कोरोनावायरस महामारी के कारण कई ट्रेनें रद्द है, जिससे यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में रेलवे ने त्योहारी सीजन में कई स्पेशल ट्रेन चलाने का मन बनाया है.

त्योहारों को लेकर पूर्व दिशा में जाने वाली ट्रेनों में सबसे ज्यादा भीड़ देखने को मिल रही है. कई ट्रेनों में कंफर्म टिकट नहीं मिल पा रहा है. जबकि कोरोना के कारण रेलवे ने केवल कंफर्म टिकटों पर ही यात्रा की अनुमति दी है. रेलवे का स्पष्ट निर्देश है कि अनारक्षित बोगियों में भी बिना कंफर्म टिकट के सफर की इजाजत नहीं होगी. इतना ही नहीं कई स्टेशनों पर तो बिना कंफर्म टिकट के प्रवेश की भी अनुमति नहीं है.

अमर उजाला की खबर के मुताबिक रेलवे के एक अधिकारी ने कहा कि त्योहारों को ध्यान में रखते हुए कई जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू कर दिया गया है. साथ ही आने वाले समय में कई और स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया जायेगा. जल्द ही उनके नामों की घोषणा की जायेगी. हर रूट का अच्छी तरह आकलन किया जा रहा है. जहां जितनी जरूरत होगी उतनी ट्रेनों का परिचालन किया जायेगा.

रेलवे लगातार सोशल मीडिया पर यात्रियों को सचेत करता है कि टिकटों के लिए दलाल के चक्कर में न पड़ें. प्रोपर चैनल से ही अपना टिकट लें और सुरक्षित यात्रा करें. रेलवे ने टिकटों की कालाबाजारी रोकने के लिए रेलवे सुरक्ष बल और कर्मचारियों की कई स्पेशल टीमें बनायी है. रेलवे ने यात्रियों को आईआरसीटीसी की वेबसाइट, अधिकृत एजेंट और आरक्षण केंद्रों से ही टिकट बुक कराने की सलाह दी है.

रेलवे ने कई बार स्पष्ट रूप से कहा है कि ट्रेन में सफर के समय कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन सुनिश्चित किया जाना चाहिए. रेलवे ने इसके लिए स्टेशनों पर आरटीपीसीआर जांच सहित कई संसाधनों की व्यवस्था भी की है. कई स्टेशनों पर राज्य सरकार की ओर से भी कई पाबंदियां लगायी गयी हैं. दूसरे राज्यों से आने वाले यात्रियों की आरटीपीसीआर जांच की जा रही है. मास्क का उपयोग अनिवार्य कर दिया गया है. नियमों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई भी की जा रही है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button