छत्तीसगढ़

रायपुर : प्रदेश में अब तक 31.16 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी

राज्य के मिलरों को 8 लाख 59 हजार 275 मीट्रिक टन धान का डी.ओ. जारी किया गया है।

रायपुर, 21 दिसम्बर 2020 : खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 21 दिसम्बर 2020 तक 31 लाख 16 हजार 306 मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 8 लाख 38 हजार 837 किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा। राज्य के मिलरों को 8 लाख 59 हजार 275 मीट्रिक टन धान का डी.ओ. जारी किया गया है। जिसके विरूद्ध मिलरों द्वारा अब तक 5 लाख 60 हजार मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है।

खरीफ वर्ष 2020-21 में 21 दिसम्बर 2020 तक राज्य के बस्तर जिले में 37 हजार 732 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बीजापुर जिले में 12 हजार 100 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 2 हजार 307 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में एक लाख एक हजार मीट्रिक टन, कोण्डागांव जिले में 47 हजार 886 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 4 हजार 832 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 8 हजार 351 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में एक लाख 63 हजार 492 मीट्रिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 22 हजार 281 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में दो लाख 74 हजार 812 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में 32 हजार 442 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में एक लाख 21 हजार मीट्रिक टन खरीदी की गई है।

यह भी पढ़ें :-मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर मिली एक और बड़ी उपलब्धि 

इसी तरह रायगढ़ जिले में एक लाख 94 हजार 15 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 2 लाख 2 हजार 248 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 2 लाख 8 हजार 351 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में एक लाख 56 हजार 225 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में एक लाख 56 हजार 199 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में दो लाख 75 हजार 109 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में एक लाख 98 हजार 623 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में एक लाख 57 हजार 360 मीट्रिक टन,

गरियाबंद जिले में एक लाख 18 हजार 469 मीट्रिक टन, महासमुंद जिले में 2 लाख 9 हजार 852 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में एक लाख 93 हजार 99 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में 39 हजार 860 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 31 हजार 199 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 27 हजार 100 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में 53 हजार 347 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में 67 हजार 10 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button