छत्तीसगढ़

रायपुर नगर पालिक निगम ने जारी किया स्वच्छता सर्वेक्षण में पूछे जाने वाला सवाल

जनता को याद करने के लिए प्रश्नों के साथ ही उसका उत्तर भी जारी किया

रायपुर: बेहद गोपनीय तरीके से दिल्ली से आई 3 युवतियों और दो युवकों की टीम स्वच्छता सर्वेक्षण कर रही है. रायपुर नगर पालिक निगम अभी तक के यह नहीं पता लगा पाया है कि टीम रुकी कहां है. टीम की हाई लेवल मॉनिटरिंग जारी है.

वहीं रायपुर नगर पालिक निगम ने उन प्रश्नों को जारी कर दिया है जो स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए शहर पहुंची टीम द्वारा पूछा जाएगा. यही नहीं निगम के अधिकारियों ने आम जनता को सख्त ताकीद दी है कि उन्हें टीम के सामने उत्तर क्या देना है? उन्होंने जनता को याद करने के लिए प्रश्नों के साथ ही उसका उत्तर भी जारी कर दिया है.

निगम द्वारा जारी किया गया प्रश्न-उत्तर

टीम आप से पूछेगी कि क्या आप से डोर टू डोर कलेक्शन के लिए गीला एवं सूखा कचरा अलग अलग मांगा जाता है? आपको हां कहना है. क्या आप पाते हैं कि आपके शहर की सड़कों पर सड़क डिवाइडर उचित रूप से पौधों से ढके हैं? तो भी आपको हां कहना है. क्या आपको अपने शहर कचरा मुक्त शहर स्टार रेटिंग का स्टेटस पता है? आपको कहना है हां 7 स्टार सिटी है.

क्या आप अपशिष्ट को संग्रहणकरता को देने से पहले अलग अलग करके देते हैं? तो आपको कहना हां. किस प्रकार से अलग अलग करके देते हैं? तो आपको बताना है कि गीला कचरा और सूखा कचरा अलग अलग करके देते हैं. आपसे पूछा जाएगा कि आप क्या यूजर चार्ज देते हैं? तो आपको कहना है कि हां. कितना रुपए देते हैं? तो आपको कहना है घरों के लिए 30 रुपए और दुकानों के लिए 50 रुपए.

मॉडल आंसर जारी

इस प्रकार से 24 प्रश्नों के साथ उनके मॉडल आंसर जारी किए गए हैं ताकि जनता उसका जवाब जान ले. कुछ लोग बता रहे हैं कि दबाव पूर्वक यह जवाब भी दिलवाया जा सकता है. कुछ लोगों का कहना है कि टीम के तेवर अच्छे दिखे तो नगर निगम ऐसे कुछ पहले से दस्तखत कराए हुए प्रश्नों के उत्तर देकर उनको 7 स्टार सिटी की खासियत बताएगा. देखिए प्रश्न और वह उत्तर जो स्वच्छता सर्वेक्षण टीम आपके यहां आने पर आपको देना है.

वैसे जनता को मालूम है कि मॉडल उत्तर में कितने उत्तर गलत है. परंतु नगर निगम भी गलत नहीं है, उसका मानना है कि रायपुर की जनता का मोरल और नैतिक मूल्य इतने ऊंचे हैं कि अपने शहर को प्रथम स्थान दिलाने के लिए वह गलत जानकारी देख कर भी प्रथम स्थान पाने के लिए सहयोग करेगी. निगम के विश्वसनीय सूत्रों का मानना है कि अगर जनता मॉडल आंसर के समान जवाब दे दे तो कोई ताकत नहीं है जो रायपुर शहर को नंबर वन बनाने से रोक सकें.

फिलहाल अब देखना यह होगा की काम काज से शहर को चमकाने की बजाय चीटिंग कर नंबर हासिल करने की कवायद करने वाले अधिकारियों के खिलाफ राज्य सरकार कोई कार्रवाई करती भी है या नहीं, या इसी तरह से आम जनता के साथ ही सरकार को नौकर शाहों द्वारा छला जाएगा.

Tags
Back to top button