रायपुर: प्रशासनिक अफसर का भाई है मोस्ट वांटेड अपराधियों की सूची में टॉप पर

पुलिस ने एक प्रशासनिक अफसर के भाई को मोस्ट वांटेड अपराधियों की सूची में टॉप पर रखा है

शहर में वारंटियों की धरपकड़ के बीच गंभीर अपराधों में संलिप्त अपराधियों को दबोचने के लिए पुलिस ने शिकंजा कसा है। इसी बीच आरोपियों के मिजाज के हिसाब से उन्हें दबोचने के लिए इनाम की राशि की घोषणा की गई है।

जब पुलिस ने एक प्रशासनिक अफसर के भाई को मोस्ट वांटेड अपराधियों की सूची में टॉप पर रखा है, जिसे पकड़ने में पुलिस के मददगार को दो नहीं, पांच नहीं, बल्कि 10 हजार रुपये की इनामी राशि से नवाजा जाएगा।

अलग-अलग इनाम राशियों में सबसे कम राशि दो हजार रुपये की गई है। हालांकि पुलिस अफसरों का कहना है कि इनाम राशि जारी होने के बाद ज्यादातर आरोपी पकड़े जा चुके हैं। गंभीर अपराधों में संलिप्त आरोपी जेल भेजे जा चुके हैं।

इस साल बनाई गई सूची में तीन प्रकरण शामिल हैं, जिनमें धोखाधड़ी और गुंडागर्दी करने वालों के नाम शामिल हैं। सबसे ऊपर हत्या के मामले में फरार गैंगस्टर वरुण कौशल का नाम शामिल है।

पुलिस के आंकड़ों में आरोपी वरुण कौशल के खिलाफ आधा दर्जन से गंभीर अपराध दर्ज हैं। तीन से ज्यादा बार जानलेवा हमला करने के मामले में आरोपी है, जबकि रोड रेज के मामले में हत्या की वारदात में भी संलिप्तता रही है।

बतौर मुख्य आरोपी मानकर पुलिस ने धारा 302 के तहत मुकदमा कायम किया है। हाईस्पीड ड्राइविंग के विवाद में वरुण और उसके साथियों ने कोलकाता से नया रायपुर काम करने पहुंचे एक शख्स की चाकू गोदकर हत्या कर दी थी।

इस साल के ये रहे हैं मोस्ट वांटेड, जिन पर इनाम

वरुण कौशल

इनाम – 10000 रुपये

प्रकरण- नया रायपुर में मर्डर

साथी – मिंटू उर्फ समीर भी शामिल

नवनीत सिंह टुटेजा

हरविंदर कौर

गुरुनानक सिंह

इनाम – 5000 रुपये

मामला- चिटफंड कारोबार, धोखाधड़ी

राजेंद्र यादव

इनाम- 2000 रुपये

पिछले साल इनामियों की सूची में थे 13 आरोपी

2017 में पुलिस के मोस्ट वांटेड लिस्ट में कुल 13 आरोपी शामिल किए गए थे। बताया गया इन्हें पकड़ने के लिए पांच हजार, तीन हजार और दो हजार रुपये इनाम राशि की घोषझाा की गई थी।

ज्यादातर आरोपी दुष्कर्म और धोखाधड़ी के केस में फरार हुए थे। धोखाधड़ी में फरार आरोपियों को पकड़ने पांच हजार रुपये इनाम रखा गया था। उद्घोषणा करने के बाद रायपुर पुलिस को कामयाबी भी मिली, 80 फीसदी आरोपी दबोचे गए।

गंभीर अपराध के मामलों में क्राइम ब्रांच की टीम लगातार छानबीन कर रही है। वांटेड लिस्ट तैयार है। अपराधियों को पकड़ने के लिए इनाम राशि तय की गई है। -दौलतराम पोर्ते, एडिशनल एसपी क्राइम<>

 

Back to top button