रायपुर आएगी केंद्रीय टीम फर्जी टेलीफोन एक्सचेंज की जांच करने

रायपुर। दिल्ली-मुंबई में पैरलल टेलीफोन एक्सचेंज संचालित करने के मामले में पकड़े गए इंटरनेशनल गैंग के मास्टरमाइंड समेत 8 सदस्यों से पूछताछ करने केंद्रीय गुप्तचर एजेंसी की टीम के रायपुर आने के संकेत हैं। हालांकि पुलिस अफसरों ने इसकी पुष्टि नहीं की है

मिनिस्ट्री ऑफ कम्यूनिकेशन एंड आईटी डिपार्टमेंट ने गैंग का भंडाफोड़ होने के बाद अपने स्तर पर जांच शुरू की है। रायपुर पुलिस से पूरी डिटेल ली गई है।

वहीं एटीएस ने बीएसएनएल के समानांतर अवैध तरीके संचालित टेलीफोन एक्सचेंज के जरिए गैंग ने विभिन्ना टेलीकम्यूनिकेशन कंपनियों को करोड़ों का नुकसान पहुंचाया है। लिहाजा इसकी जानकारी कंपनियों से मांगी गई है कि आखिर कितने का आर्थिक नुकसान हुआ है। उनकी रिपोर्ट ही आरोपियों के खिलाफ तगड़ा सबूत होगा।

इंटरपोल से ली जाएगी एरिस की जानकारी
पुलिस अफसरों के मुताबिक चाइना की कंपनी स्काईलाइन लिमिटेड से इस गैंग के लिंक जुड़े होने के खुलासे के बाद केंद्रीय गुप्तचर विभाग ने इंटरपोल की मदद से कंपनी के हेड एरिस नामक शख्स के बारे में जानकारी ली जा रही है।

आरोपियों ने पूछताछ में खुलासा किया था कि एरिस ने भारत के सभी बड़े शहरों फर्जी टेलीफोन एक्सचेंज का नेटवर्क फैलाकर विभिन्ना टेली कम्यूनिकेशन के सर्वर में सेंध लगाकर छत्तीसगढ़ समेत अन्य बड़े शहरों के लाखों मोबाइल ग्राहकों को सस्ते दर पर एसटीडी कॉल को विदेशी कॉल में कन्वर्ट कर बातचीत करवाता था।

Back to top button