रायपुर : शासन की मदद से नक्सली पीड़ित महिला अमीरु निशा को मिला पक्का आवास

पति के निधन से कठिनाईयों का सामना किया। एक पुत्री की उम्र विवाह के लायक होने के कारण चिंता हो रही थी, वहीं सिर छुपाने के लिए मकान भी नहीं था।

रायपुर, 26 जुलाई 2021: शासन की महत्वाकांक्षी मोर जमीन-मोर मकान योजनान्तर्गत सहायता के जरिये नक्सली पीड़ित महिला अमीरु निशा को पक्का आवास मिला है। जिससे अमीरु निशा अब परिवार के साथ खुशहालपूर्वक जीवन व्यतीत कर रही हैं।

बीजापुर नगर के वार्ड क्रमांक 11 में निवासरत् नक्सली पीड़ित महिला अमीरु निशा बताती हैं कि वर्ष 2006 में उनके पति स्वर्गीय मोहम्मद बेग की हत्या नक्सलियों ने कर दी थी। इस घटना के पश्चात् एक पुत्र और दो पुत्रियों के भरण-पोषण की जिम्मेदारी पूरी तरह उनके कंधे पर आ गयी। पति के निधन से कठिनाईयों का सामना किया। एक पुत्री की उम्र विवाह के लायक होने के कारण चिंता हो रही थी, वहीं सिर छुपाने के लिए मकान भी नहीं था।

एक छोटे से कच्चे मकान पर निवासरत् थीं जिसमें बारिश के दौरान पानी टपकने की समस्या थी। इस बीच वर्ष 2018 में प्रधानमंत्री आवास योजनांतर्गत बीएलसी घटक में मोर जमीन-मोर मकान की जानकारी नगरपालिका परिषद बीजापुर से मिली, तो अपना स्वयं का मकान बनाने के लिए उत्सुक हो गयी। नगर पालिका परिषद बीजापुर के अधिकारियों तथा प्रधानमंत्री आवास योजना की टीम द्वारा भी त्वरित कार्यवाही कर उनका आवास निर्माण हेतु आवेदन पत्र प्रतिपूरित कर शासन को प्रस्ताव भेजा गया। स्वीकृति प्राप्त होने के उपरांत आर्थिक स्थिति खराब होेने के कारण एक साल तक आवास निर्माण करने में असमर्थ थीं। इस दौरान नगरपालिका परिषद बीजापुर के आवास निर्माण टीम द्वारा उन्हें मकान बनाने के लिए काम शुरु करने प्रेरित किया गया।

जिससे वह किसी तरह हितग्राही अंशदान की 78 हजार रुपये जमा कर दी और आवास निर्माण शुरु किया। अमरु निशा ने बताया कि मकान बनाने का कार्य धीरे-धीरे आगे बढ़ने के साथ जब पूरा हुआ, तो वह और उनका परिवार काफी प्रफुल्लित हुए। वहीं मकान पूरा होने पर धूमधाम से अपनी छोटी बेटी का विवाह किया । अमरु निशा अपने पक्के आवास का सपना साकार करने के लिए शासन के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हुए कहती हैं यह सरकार की सहायता से ही संभव हो पाया। शासन द्वारा अमरु निशा को मकान निर्माण के लिए 2 लाख 26 हजार रुपए की मदद दी गयी।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button