छत्तीसगढ़

प्रोफेसर के खिलाफ आन्दोलन हो रहा तेज

रायपुर :डिग्री गर्ल्स कॉलेज में कथित रूप से छेड़खानी के मामले में घिरे प्रोफेसर बीपी कश्यप की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। मामले में उनके खिलाफ जहां छेड़खानी का मामला पुलिस ने दर्ज कर लिया है। वहीं दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ कॉलेज के एबीवीपी समर्थित छात्र-छात्राओं ने उनके निलंबन की मांग को लेकर उच्च शिक्षा सचिव के नाम से संयुक्त सचिव को ज्ञापन सौंपा है। इधर डिग्री गर्ल्स कॉलेज में छात्रसंघ अध्यक्ष अंजना वर्मा ने बीपी कश्यप के बाद अब कॉलेज में उच्च पदों पर आसीन पुरुष प्रोफेसर्स के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है। अंजना वर्मा ने राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय के नाम से ज्ञापन सौंपकर कॉलेज में सभी उच्च पदों और संकायों से पुरुष प्रोफेसर्स को हटाकर महिला प्रोफेसर्स की नियुक्ति करने की मांग की है। छात्राओं का पुरुष प्रोफेसर्स के खिलाफ बढ़ते अविश्वास के बाद मामला और गंभीर होता जा रहा है। अंजना वर्मा ने बताया कि पिछले दिनों जिस तरह से छात्राओं के साथ छेड़खानी हुई। उससे सबक लेते हुए हमने अपनी सुरक्षा के लिए यह निर्णय लिया है कि सरकार उच्च पदों पर बैठे पुरुष प्रोफेसर्स को सात दिन के भीतर हटाए अन्यथा उग्र आंदोलन किया जाएगा। गौरतलब है कि डिग्री गर्ल्स कॉलेज में भूगोल विभाग के प्रोफेसर बीपी कश्यप पर छेड़खानी करने का सनसनीखेज आरोप छात्राओं ने लगाया था। इसके बाद यहां जांच कमेटी बैठाई गई है। मामले की शिकायत, उच्च शिक्षा सचिव, उच्च शिक्षा मंत्री, महिला आयोग और पुलिस से भी की जा चुकी है। इसके बाद भी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। हालांकि उच्च शिक्षा विभाग ने बीपी कश्यप का ट्रांसफर छत्तीसगढ़ कॉलेज में किया है, लेकिन वहां भी प्रोफेसर के खिलाफ लगातार प्रदर्शन किया जा रहा है।

Tags
Back to top button