राज ठाकरे का मोदी पर तीखा वार, कहा- आज तक नहीं देखा ऐसा झूठा प्रधानमंत्री

मुंबई के एल्फिंस्टन स्टेशन पर हुए हादसे के विरोध में मनसे सुप्रीमो राज ठाकरे ने महारैली की. इस दौरान ठाकरे ने मोदी सरकार और रेलवे पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, “मोदी सरकार ने विश्वासघात किया है. लोगों ने उन्हें यह सोचकर बहुमत दिया कि अच्छे दिन लाएंगे, लेकिन वो सब जुमले निकले. कांग्रेस सरकार में जो हालात थे वही हालात भाजपा सरकार में भी है. कोई बदलाव नहीं हुआ है.”

ठाकरे ने आगे कहा कि, “जब मोदी ने बुलेट ट्रेन के बारे में घोषणा की थी तब ही मैं इनकी नीयत समझ गया था.

मुंबईकर बुलेट ट्रेन से अहमदाबाद जाकर क्या ढोकला खायेंगे? अहमदाबाद से अच्छा ढोकला तो मुंबई में मिलता है. मैंने आज तक अपने जीवन में इतना झूठ बोलने वाला प्रधानमंत्री नहीं देखा. जो पहले कुछ बोलता है और बाद में कुछ और.”

देश की इकॉनमी कर भी ठाकरे ने तीखा वार किया, ” उन्होंने कहा कि मोदी ने नोटबंदी, मेक इन इंडिया जैसे प्रयोग करके देश को खड्डे में डाल दिया. तीन साल बर्बाद कर दिए. आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल ने भी कह दिया है कि किसानों को कर्ज नहीं दे सकते इसके बावजूद सरकार को समझ नहीं आया. अब इस सरकार को हटाना होगा.”

वहीं, राज ठाकरे ने रेलवे को भी चेतावनी दी. उन्होंने कहा कि, “अगले 15 दिन के अंदर मध्य रेलवे और पश्चिम रेलवे अपने सभी स्टेशनों के पास से अवैध फेरीवालों को हटाए वरना हम अपनी स्टाइल से कार्रवाई करेंगे. अभी हमने सरकार के खिलाफ शांतिपूर्ण मोर्चा निकाला है, लेकिन अगली बार ऐसा नहीं होगा. ”

राज ठाकरे ने रेलवे पर तीखा हमला करते हुआ कहा कि, “रेलवे भगदड़ की वजह भारी बारिश को बता रही है. पर क्या मुंबई में पहली बार बारिश हो रही है. इसके पहले भी मुंबई में भारी बारिश देखी है, लेकिन इस तरह लोगों के हालात नहीं हुए हैं. रेलवे बारिश का बहाना बनाकर अपनी लापरवाही छिपा रही है.”
वहीं, बीजेपी सांसद किरीट सोमैया को भी राज ठाकरे ने जमकर निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि, “जब कांग्रेस की सरकार थी तो किरीट सोमैया मुंबई के रेलवे स्टेशनों के स्ट्रक्चर को गलत बताते थे, लेकिन जब खुद की सरकार आई तो गायब हो गए. भगदड़ में इतने लोग मरे पर इससे कुछ फर्क नहीं पड़ा उन्हें.”

एल्फिंस्टन स्टेशन पर मची भगदड़ को लेकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) प्रमुख राज ठाकरे ने नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा था. इसके साथ ही उन्होंने चेतावनी दी थी कि अगर रेलवे ने यहां बुनियादी ढांचे में सुधार नहीं किया, तो वह मुंबई में बुलेट ट्रेन का काम शुरू नहीं होने देंगे. इस हादसे में 22 लोगों की मौत हो गई, जबकि 30 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं.

Back to top button