छत्तीसगढ़

लकड़ी जलाते पाए जाने पर राजलक्ष्मी ढाबा को किया गया सील

लकड़ी जलाते पाए जाने पर राजलक्ष्मी ढाबा को किया गया सील

रायपुर । जिले में राजस्व, पुलिस और पर्यावरण मण्डल की संयुक्त टीमों की ओर से राजधानी रायपुर सहित जिले के प्रमुख मार्गो और आरंग और अभनपुर क्षेत्रों में संचालित ढाबों, होटलों और मैरिज पैलेसों की लगातार आकस्मिक जांच जारी है । अनुविभागीय अधिकारी राजस्व अभनपुर के नेतृत्व में जांच टीम ने शनिवार को राजलक्ष्मी ढाबा में ईधन के रूप में लकड़ी का उपयोग करते हुए पाए जाने पर उसे तत्काल सील किया गया।

कलेक्टर ने दी थी चेतावनी : दरअसल कि पर्यावरण प्रदूषण की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन की ओर से राजधानी रायपुर सहित जिले में संचालित ढाबों और होटलों के तंदूर में केवल रोटी के लिए ही लकड़ी के गुटके और लकड़ी के कोयले की अनुमति प्रदान की गई है। इसके लिए कलेक्टर ओ.पी. चौधरी ने ढाबा और होटल संचालकों की बैठक लेकर उन्हें 20 दिसंबर तक व्यावसायिक गैस सिलेण्डरों की व्यवस्था करने के निर्देश दिए थे तथा इसके बाद निर्देशों का उल्लघंन पाए जाने पर संबंधितों के विरूद्ध धारा 188 के तहत आवश्यक दण्डात्मक कार्रवाई करने को कहा गया था।

कलेक्टर ने इसके साथ ही राजधानी रायपुर में सुगम यातायात के लिए मैरिज पैलेसों में पार्किंग की पर्याप्त व्यवस्था सहित अन्य आवश्यक व्यवस्था भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए थे। कलेक्टर ने ढाबों, होटलोंं और मैरिज पैलसों में दिए गए निर्देशों के परिपालन की आकस्मिक जांच के लिए राजस्व, पुलिस और पर्यावरण संरक्षण मण्डल के अधिकारियों की 8 अलग-अलग टीम भी गठित की है। इन टीमों की ओर से अपने-अपने क्षेत्रांतर्गत संचालित ढाबों, होटलों और मैरिज पैलेसों की आकस्मिक जांच लगातार जारी है।

Back to top button