राष्ट्रीय

आतंकियों को धूल चटाने पर राजनाथ सिंह ने थपथपाई सुरक्षाबलों की पीठ

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू और कश्मीर में बीएसएफ के एक शिविर पर हमला करने वाले आतंकियों का सफलतापूर्वक सफाया करने पर सुरक्षा बलों की प्रशंसा की. उन्होंने कहा कि श्रीनगर हवाईअड्डे के पास हुए आत्मघाती हमले के बाद उन्होंने सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के प्रमुखों से बातचीत की. उन्होंने यहां संवादाताओं को बताया, ‘मैंने सीआरपीएफ के महानिदेशक और बीएसएफ के महानिदेशक से बात की है. उनके द्वारा चलाया गया यह अभियान सफल रहा.’ गृहमंत्री ने बताया कि घटना में बीएसएफ के एक सहायक उप निरीक्षक (एएसआई) शहीद हो गए. इस घटना में दो अन्य घायल हो गए थे लेकिन वे अब खतरे से बाहर हैं.

आंतकवादियों के एक समूह ने आज श्रीनगर हवाईअड्डे के समीप बीएसएफ के एक शिविर पर आत्मघाती हमला कर दिया था जिसमें एक एएसआई के शहीद होने के साथ ही चार अन्य सुरक्षाकर्मी घायल हो गए थे.

हवाईअड्डे के पास हुई तेज गोलीबारी में दो आतंकी मारे गए. इस दौरान इलाके में कुछ देर के लिए विमानों की उड़ानों को रोक दिया गया और स्कूलों को बंद करवा दिया गया था.

182वीं सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) बटालियन कैंप पर मंगलवार तड़के करीब सवा चार बजे हुए फिदायीन हमले के बाद सुरक्षा बलों के ऑपरेशन में तीन आतंकियों को ढेर कर दिया गया. हालांकि बीएसएफ के एक एएसआई बीके यादव शहीद हुए और बीएसएफ के चार जवान घायल हो गए. ये आतंकी मंगलवार तड़के ग्रेनेड फेंकते हुए कैंप में घुसे. आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद ने इस आतंकी हमले की जिम्‍मेदारी ली है. जहां हमला हुआ, उसको श्रीनगर का सबसे सुरक्षित इलाका माना जाता है. हमले के बाद पूरे श्रीनगर में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया. श्रीनगर एयरपोर्ट के पास के सभी स्‍कूल बंद कराए गए हैं.

राज्य के पुलिस महानिदेशक एस पी वैद ने बताया कि बीएसएफ शिविर में घुसे तीन आतंकवादी ‘मार गिराए’. उन्होंने कहा, ‘हम विस्फोटक लगाने की आशंकाओं के चलते परिसर के भीतर तलाशी अभियान चला रहे हैं’. घटनाक्रम से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि पहले से ही खुफिया सूचना थी कि जैश-ए-मोहम्मद का आतंकवादी शहर में फिदाई दस्ता लेकर आया है. आतंकवादी की पहचान ‘नूरा त्राली’ के रूप में हुई है.

हमले के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस, सीआरपीएफ और बीएसएफ की संयुक्‍त प्रेस कांफ्रेंस में बोलते हुए आईजी कश्‍मीर मुनीर खान ने कहा, ”दो आतंकी मारे गए. दुर्भाग्‍य से एक एएसआई शहीद हुए.” एक सवाल के जवाब में उन्‍होंने कहा कि इसमें कोई शक नहीं कि आतंकी जैश-ए-मोहम्‍मद के थे. इसके साथ ही कहा कि इस तरह के हमले तब तक होते रहेंगे जब तक पाकिस्‍तान हमारा पड़ोसी है.

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.