राजनाथ सिंह ने कहा ओखी तूफान ने ली 92 लोगों की जान, केंद्र ने तत्काल पहुंचाई मदद

सिंह ने बताया कि ओखी चक्रवात में मारे गए प्रत्येक व्यक्ति के परिवार को दो लाख रुपए और गंभीर रूप से घायल व्यक्ति को 50 हज़ार रुपए की राशि दी जा रही है


राजनाथ सिंह ने कहा ओखी तूफान ने ली 92 लोगों की जान, केंद्र ने तत्काल पहुंचाई मदद

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि पिछले दिनों तटीय क्षेत्रों में आए ओखी तूफान में 92 लोगों की मौत हुई है और इस प्राकृतिक आपदा के आने के तत्काल बाद केंद्र सरकार की तरफ से मदद मुहैया कराई गई. उन्होंने कहा कि केंद्रीय दलों की रिपोर्ट के आधार पर प्रभावित राज्यों को अतिरिक्त सहायता देने के बारे में फैसला किया जाएगा.

केरल, तमिलनाडु और लक्षद्वीप के तटीय क्षेत्रों में तबाही मचाने वाले ओखी चक्रवात और प्राकृतिक आपदाओं पर लोकसभा में हुई चर्चा का जवाब देते हुए सिंह ने नियमों का हवाला दिया और कहा कि सरकार की मजबूरियां हैं जिस वजह से ओखी चक्रवात को राष्ट्रीय आपदा घोषित नहीं किया जा सकता, हालांकि सरकार ने इसे गंभीर आपदा माना है.

उन्होंने कहा कि ओखी तूफान से केरल में 74 और तमिलनाडु में 18 लोगों की मौत हुई है. कुल 275 लोग लापता हैं. समय पर चेतावनी मिलने के बावजूद केरल सरकार की ओर से पर्याप्त कदम नहीं उठाए जाने संबंधी कुछ सदस्यों के दावे को लेकर गृह मंत्री ने स्थिति स्पष्ट की. उन्होंने कहा कि मौसम विज्ञान विभाग ने 29 नवंबर को दिन में 11:50 बजे चेतावनी जारी की. इसके बाद हर तीन घंटे पर बुलेटिन के जरिए जानकारी दी जाती रही.

उन्होंने कहा कि मछुआरे मछली पकड़ने के लिए गहरे समुद्र में जाते हैं. इसमें उन्हें 10 दिन लग जाते हैं और आने में भी 10 दिन लगते हैं. इस तरह वो एक महीने तक समुद्र में रहते हैं. ऐसे में 48 घंटे में उन्हें अलर्ट करना संभव नहीं है. ऐसी स्थिति में नौसेना और वायुसेना की तरफ से तत्काल कदम उठाए गए और सहायता पहुंचाई गई.

मृतकों के परिजनों को दो लाख और घायलों को 50 हजार रुपए दिए जाएंगे

राहत और बचाव कार्यों का ब्यौरा देते हुए गृह मंत्री ने कहा कि 700 समुद्री मील तक बचाव अभियान चलाया गया. जिसमें 855 मछुआरों को बचाया गया. बचाव कार्य अब तक चलाए जा रहे हैं.

उन्होंने बताया कि ओखी चक्रवात में मारे गए प्रत्येक व्यक्ति के परिवार को दो लाख रुपए और गंभीर रूप से घायल व्यक्ति को 50 हज़ार रुपए की राशि दी जा रही है. सिंह ने कहा कि ओखी एक विशेष तरह का तूफान था और शायद इसी वजह से समय रहते पर्याप्त कदम नहीं उठाए जा सके.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने प्रभावित राज्यों का दौरा किया और 325 करोड़ रुपए की सहायता राशि की घोषणा की. प्रभावित इलाकों में क्षतिग्रस्त मकानों को फिर बनाने के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत डेढ़-डेढ़ लाख रुपए की राशि दी जाएगी.

सिंह ने बिहार, पश्चिम बंगाल तथा कुछ दूसरे राज्यों में आई बाढ़ का उल्लेख किया और कहा कि इन राज्यों को भी सहायता प्रदान की जा रही है.

advt
Back to top button