उत्तर प्रदेशराज्य

राज्यसभा चुनाव: क्रॉस-वोटिंग सिर्फ हमारी तरफ से नहीं होगी बल्कि बीजेपी की तरफ से भी हो सकती है

राज्यसभा चुनाव के मतदान से पहले शिवपाल ने कहा कि हम दोनों राज्यसभा सीटें जीतेंगे. क्रॉस-वोटिंग सिर्फ हमारी तरफ से नहीं होगी बल्कि बीजेपी की तरफ से भी हो सकती है.

राज्यसभा चुनाव के मतदान से पहले शिवपाल ने कहा कि हम दोनों राज्यसभा सीटें जीतेंगे. क्रॉस-वोटिंग सिर्फ हमारी तरफ से नहीं होगी बल्कि बीजेपी की तरफ से भी हो सकती है.

यह जरूर है कि 2 विधायक हमसे मिलने आए थे. इनमें निर्दलीय विधायक अमन मणि और निषाद पार्टी के MLA विजय मिश्रा हमसे मिले हैं. वो हमारे करीबी हैं, लेकिन हमारी पार्टी के नहीं है.

उत्तर प्रदेश की 10 राज्यसभा सीटों के लिए मतदान हो रहा है. सत्ता पक्ष बीजेपी और विपक्ष के बीच कांटे का मुकाबला है. दोनों एक दूसरे के विधायकों में सेंधमारी करने की जुगत में हैं. सपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव विपक्ष की ओर से एक्टिव हैं. इसमें कोई संशय नहीं है.

शिवपाल ने कहा कि हमारा परिवार पहले भी एक था, अब भी एक है. हमारे अंदर कोई टूट नहीं है. सभी परिवारों में झगड़े होते हैं. इसका मतलब पार्टी में टूट थोड़े होता है. उन्होंने कहा कि सभी पार्टियों के विधायकों से हमारे संबंध हैं.

शिवपाल ने कहा कि मैं समाजवादी पार्टी के विधायकों के बारे में पूरे यकीन से कह सकता हूं कि एक भी विधायक नहीं टूटेगा. लेकिन क्रॉस वोटिंग अगर होती है तो एक तरफ से नहीं होगी. अगर हमारी तरफ से हुई तो दूसरी तरफ से भी होगी.

चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश से बड़ी खबर आई. बसपा विधायक अनिल सिंह ने गुरुवार को बीजेपी विधायकों से मुलाकात की. अनिल सिंह के अलावा दो और बीएसपी विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं. माना जा रहा है देर रात हुए खेल में बहुजन समाज पार्टी के बलिया और आजमगढ़ के विधायक भी बीजेपी से संपर्क में हैं.

मुख्यमंत्री आवास पर हुई विधायक दल की बैठक में अनिल सिंह को भी देखा गया था. साफ है कि चुनावों में क्रॉस वोटिंग हो सकती है. अनिल सिंह उन्नाव के पुरवा विधानसभा से विधायक हैं. अनिल सिंह उन्नाव के पूर्वा से विधायक हैं. पहले भी बीजेपी के करीब रहे हैं. बीजेपी से टिकट नहीं मिलने पर बीएसपी से चुनाव लड़े और जीते.

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.