भाईयों के कलाइयों में बंधेगी समूह की महिलाएं द्वारा बनायी राखियां

संगठन की महिलाएं बना रही है विविध प्रकार की राखियां

  • कल्पतरू मल्टी यूटिलिटी सेंटर में उजाला ग्राम
  • त्यौहारी सीजन में महिलाओं को मिलने लगा है अतिरिक्त आय

रायपुर : कल्पतरू मल्टी यूटिलिटी सेंटर सेरीखेड़ी में उजाला ग्राम संगठन की महिलाओं द्वारा कई प्रकार की राखियों का निर्माण किया जा रहा है। जिसमें पर्यावरण अनुकूल बीज की राखी,बांस से बनी राखी गोबर,फैंसी,चॉकलेट,मौली धागा से बनी आकर्षित राखियों का निर्माण संगठन की 10 महिलाओं के द्वारा किया जा रहा है। संगठन की महिलाओं ने बताया कि राखी के अलावा पूजा के लिए पर्यावरण अनुकूल पाल्म लीफ के पत्ते एवं गन्ने से बने पत्तल के पूजा थाली का निर्माण भी किया जा रहा है।

समूह की महिलाओं द्वारा अलग-अलग डिजाइन 

उन्होंने बताया कि राखियों और थालियों के लिए अब उन्हें शासकीय विभागों जैसे खादी ग्रामोद्योग, संचालनालय इंद्रावती भवन पर्यावास भवन इत्यादि से भी ऑर्डर मिलने लगे हैं। समूह की महिलाओं द्वारा अलग-अलग डिजाइन में तैयार की गई राखियों की कीमत भी अलग-अलग रखी गई है तथा उन्हें स्थानीय बाजारों से भी प्रतिदिन कई सौ ऑर्डर मिलने लगे हैं। समूह की महिलाओं द्वारा कोरोना 19 के बचाव को दृष्टिगत रखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मास्क लगाकर राखियों का निर्माण किया जा रहा है। रक्षाबंधन का त्यौहार नजदीक आने के कारण राखियों की डिमांड में बढ़ोतरी होने लगी है।

ग्राम संगठन की महिलाओं द्वारा बीजों एवं गोबर के फैंसी राखियों को बिहान के विभिन्न विक्रय केन्द्र जैसे अंबुजा मॅाल, मेगन्टों माॅल, इंन्द्रवती भवन कैंटिन तथा ग्रामीण हाट बाजार आदि में भी विक्रय किया जा रहा है।

कल्पतरू मल्टी यूटिलिटी सेंटर में कलेक्टर सौरभ कुमार एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी मयंक चतुर्वेदी के मार्गदर्शन में ग्रामीण महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के लिए कई प्रकार की व्यवसायिक गतिविधियों का संचालन किया जा रहा है। ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत महिलाओं का कौशल उन्नयन कर उन्हें प्रशिक्षित कर हुनरमंद बनाया जा रहा है ताकि परिवार के जीविकोंपार्जन में अपना हाथ बटां सकें।

 

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button