रक्षाबंधन : भाइयों की कलाई पर बहनों ने बांधा रक्षासूत्र

रायपुर।

रक्षाबंधन केवल एक त्यौहार नहीं बल्कि यह पर्व है वचनों का, प्रेम का, त्याग का और भरोसे का, वो भरोसा जो पूरी उम्र के लिए मात्र दो धागों में सिमटा होता है। ये बंधन ये सिखाता है कि किसी भी रिश्ते की नींव ही विश्वास पर टिकी होती है। आमतौर पर बहनें इस दिन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधा करती हैं। इसी अटूट बंधन का जीता जागता उदाहरण हमें रविवार को राजधानी रायपुर के शिवानंद नगर में देखने को मिला।

सुबह से ही बहनों ने भाइयों की कलाई पर सूत्र बांधा और मंगल कामनाएं की। उनको तिलक लगाए और आरती उतारी। साथ ही रक्षा करने का वचन लिया। वहीं भाइयों के लिए उमड़ा प्यार और बहनों की रक्षा का वचन निभाने का सिलसिला दिनभर चलता रहा। इसके बदले में भाइयों ने खुशी-खुशी उपहार भेंट किए। नन्हें-मुन्नों ने इस त्यौहार को हर्षोल्लास के साथ मनाया।

– खूब बिकी मिठाइयां

प्रेम का प्रतीक माने जाने वाला भाई-बहन के प्यार के त्यौहार रक्षाबंधन पर मिठाइयों की बंपर बिक्री हुई। दूर-दराज जाने वाले तथा बाहर से आने वालों की दुकानों पर खासी रौनक देखने को मिली। भाई की कलाई पर राखी बांधने के बाद मिठाई खिलाने का रिवाज है। इसलिए शहरों में दुकानों की लॉटरी निकल आई। ऐसे में कई मिष्ठान दुकानदारों ने दूषित मिठाइयों को भी खूब खपाने का काम किया।

Back to top button