रामविलास पासवान की जयंती: अपने पिता को याद करते हुए भावुक हुए चिराग पासवान

रामविलास पासवान की जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी श्रद्धांजलि

पटना:पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के जयंती पर उनके बेटे और लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद चिराग पासवान आशीर्वाद यात्रा शुरू करने जा रहे हैं. यात्रा की शुरुआत से पहले नई दिल्ली में चिराग ने मीडिया से बात की, उन्होंने कहा कि वह अपनी लड़ाई लड़ते रहेंगे, इस दौरान अपने पिता को याद करते हुए चिराग पासवान भावुक भी हुए.

बीते दिनों जिस तरह पार्टी दो फाड़ हो गई है, उस बीच चिराग पासवान एक बार फिर पार्टी पर अपना दावा मजबूत करने के लिए इस यात्रा की शुरुआत कर रहे हैं. चिराग पासवान सोमवार को हाजीपुर से इस यात्रा की शुरुआत करेंगे. यहां से ही रामविलास पासवान लंबे वक्त तक सांसद रहे हैं, ऐसे में चिराग की इस यात्रा की शुरुआत भी यहीं से हो रही है.

नई दिल्ली आवास पर हुई पूजा

नई दिल्ली में रामविलास पासवान के आवास पर सोमवार सुबह पूजा का आयोजन किया गया. चिराग पासवान और परिवार के अन्य सदस्य इस दौरान यहां पर मौजूद रहे, पार्टी के समर्थक भी यहां पर पहुंचे. पूजा के बाद चिराग पासवान पटना के लिए रवाना होंगे.

चिराग बोले- संघर्ष करता रहूंगा

यहां नई दिल्ली में अपने पिता की जयंती पर चिराग पासवान ने कहा कि बिहार के लोग ही मेरी ताकत हैं, आज मैं और मेरी मां अकेले हैं. काश हमारे चाचा साथ खड़े होते, लेकिन वो नहीं हैं. मैं अपने पिता की प्रेरणा से आगे बढ़ूंगा, शेर का बेटा हूं और संघर्ष के रास्ते पर ही चलूंगा.

चिराग पासवान ने कहा कि एक परिवार ने हमें धोखा दे दिया, लेकिन दूसरा परिवार हमारे साथ है. हम आशीर्वाद यात्रा की शुरुआत कर रहे हैं, जो पूरे बिहार को कवर करेगी ये सिर्फ लोगों का आशीर्वाद लेने के लिए है, ना कि ताकत दिखाने के लिए.

पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि

रामविलास पासवान की जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें श्रद्धांजलि दी. पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा कि आज मेरे मित्र रामविलास पासवान जी की जयंती हैं, मैं उनकी कमी महसूस करता हूं. वह देश के सबसे अनुभवी सांसदों, राजनेताओं में से एक थे. पिछड़े वर्ग के लिए किया गया उनका योगदान हमेशा याद किया जाएगा

पशुपति पारस भी देंगे श्रद्धांजलि

एक ओर चिराग पासवान आशीर्वाद यात्रा की शुरुआत कर रहे हैं, तो उनके चाचा और लोक जनशक्ति पार्टी अलग करने वाले पशुपति पारस भी अपने भाई रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि देंगे. पटना में पार्टी के दफ्तर में आज श्रद्धांजलि देने का कार्यक्रम है.

चाचा-भतीजे में जारी है वर्चस्व की जंग

गौरतलब है कि बीते दिनों पशुपति पारस और अन्य सांसदों ने एकजुट होकर खुद को चिराग पासवान से अलग कर लिया था. पहले पशुपति पारस संसद में पार्टी के नेता बने, बाद में पार्टी पर कब्जा कर लिया गया. अब पशुपति पारस लोजपा के अध्यक्ष हैं, जबकि चिराग का कहना है कि पार्टी अभी भी उनकी है और उनके चाचा जो फैसले ले रहे हैं, वो मान्य नहीं हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button