3 साल की डंडी मारकर किसानों का ही पैसा किसानों को दे रही रमन सरकार

भारत सरकार के पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री एवं कोरबा लोकसभा के पूर्व सांसद डॉ. चरणदास महंत ने कहा है कि छत्तीसगढ़ प्रदेश के 13 लाख किसानों को डॉ. रमन सिंह की सरकार धान का बोनस बांट रही है, जबकि प्रदेश में 37 लाख किसान हैं।

बोनस तो किसानों का अधिकार है और यह सरकार उन्हीं का पैसा उन्हें दे रही है। 3 साल की डंडी मारकर किसानों को लुभाने के लिए बोनस दिया जा रहा है, फिर काहे का बोनस त्योहार।

कोरबा प्रवास पर पहुंचे डॉं. चरणदास महंत ने मीडिया से संक्षिप्त चर्चा में उक्त बातें कहते हुए कहा कि सरकार मनरेगा मजदूरों, साक्षरता प्रेरकों को बेरोजगार कर रही है। केन्द्र ने 1 करोड़ रोजगार देने का वादा किया था, जो आज तक नहीं दिया।

नोटबंदी और जीएसटी के कारण पूरे देश व प्रदेश में 50 प्रतिशत खरीददारी में कमी आयी है। व्यापारियों से लेकर चाय दुकान और ठेला-खोमचा वाले भी इसकी मार झेल रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जादू अब खत्म हो गया है।

यही कारण है कि स्व.विनोद खन्ना के स्थान पर रिक्त गुरदासपुर से लेकर नांदेड़, उत्तरप्रदेश और केरल में यूपीए की जीत हुई है। इस जीत का पूरा श्रेय मोदी जी की कारगुजारियों को जाता है।

डॉ. महंत ने कहा कि इन वर्षों में मोदी जी ने एक भी कार्य नहीं किया बल्कि कांग्रेस के कार्यक्रमों को ही री-लॉंच कर रहे हैं। उन्होंने भाजपा नेत्री सुश्री सरोज पांडेय के विवादित बोल पर कहा कि कार्रवाई होनी चाहिए।

कोरबा सांसद डॉ. बंशीलाल महतो के बयान पर ठहाका लगाते हुए कहा कि वे अपने में मस्त हैं। बालको, एनटीपीसी व अन्य ठेका कर्मी भी सरकार की नीति से परेशान है। उन्होंने कहा कि जनता ने भाजपा की झूठ पर भरोसा कर उसे जोर-शोर से जिताया।

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को पेट्रोल पर वेट कम करना चाहिए। फिर से सत्ता में वापस आने की सोच कर धान का बोनस बांटा जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार ने शराब दुकानों के संचालन का समय बढ़ाया है ताकि सरकार का पैसा सरकार के पास वापस लौट आये।

इससे पहले कोरबा प्रवास पर पहुंचे डॉ. महंत का कोरबा विधायक जयसिंह अग्रवाल, शहर जिला अध्यक्ष राज किशोर प्रसाद, ग्रामीण जिला अध्यक्ष हरिश परसाई, सुरेंद्र प्रताप जायसवाल, महिला कांग्रेस शहर जिला अध्यक्ष सपना चौहान,  उषा तिवारी, धरम निर्मले, श्याम सुंदर सोनी, दिनेश सोनी, सुनील जैन आदि ने डॉ. महंत का स्वागत किया।

1
Back to top button