छत्तीसगढ़

‘रमन के गोठ’ : अटलजी ने छत्तीसगढ़वासियों को बनाया अपना भाग्य विधाता : डॉ. रमन 

रायपुर: 

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने आज आकाशवाणी से प्रसारित अपनी मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ में कहा कि अटल जी ने छत्तीसगढ़ की जनता से अपना वादा निभाते हुए राज्य बनाया और छत्तीसगढ़ वासियों को अपना भाग्य विधाता बना दिया। डॉ. सिंह ने भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में केंद्रीय मंत्री के रूप में काम करने के अनुभव श्रोताओं के साथ साझा किए।

डॉ. सिंह ने कहा कि अटल जी के संपर्क में आने और उनका विश्वास हासिल करने का किस्सा भी बड़ा दिलचस्प है। जब मैं पार्षद था। तभी अटल जी कवर्धा आए थे। सुबह 7 बजे उन्हें रवाना होना था। हम लोग उनके पास पहुंचे और आग्रह किया कि आप की सभा करानी है। उन्होंने पूछा कितनी भीड़ आएगी। मैंने कहा भयानक। उन्होंने हंसते हुए कहा, भयानक तब मैं नहीं आऊंगा। पर वे आए उस दिन इतनी भीड़ जुटी थी, जो आज तक किवदंती है।

आज तमाम संसाधन होने के बाद भी वैसी सभा करना संभव नहीं है क्योंकि वह भीड़ मेरे प्रयास कम अटल जी का जादू ज्यादा थी, हालांकि उन्होंने मुझे बधाई देकर मेरा उत्साह बढ़ाया था, फिर राजनांदगांव लोकसभा चुनाव में जीत के साथ मुझे लोकसभा की सदस्यता मिली और अटल जी ने मुझे अपने मंत्रिमंडल में जगह दी। जिनके सपने में देखा करता था, उनके साथ काम करने का सौभाग्य मिलने से बड़ी बात कोई हो नहीं सकती थी।

अटल जी ने केंद्रीय मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक की जिम्मेदारियां निभाना सिखाया। वे मेरे पीछे चट्टान की तरह खड़े रहे और आशीर्वाद देते रहे, इसीलिए मैंने उनके निधन पर कहा कि हमारा तो निर्माता ही चला गया, इसीलिए मैं कहता हूं कि सार्वजनिक जीवन में मेरे सफर मेरा कुछ नहीं है, सब कुछ अटल जी की देन है। उनकी प्रेरणा, उनका मार्गदर्शन, उनके आदर्श ने मुझे रास्ता दिखाया और आगे भी दिखाते रहेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ आज जिन ऊंचाई पर पहुंचा है, वह सब अटल जी की देन है। हम आगे भी उनके सपनों को साकार करेंगे। इसलिए हमने विकास यात्रा के दूसरे चरण को ‘अटल विकास यात्रा’ का नाम दिया है तथा ऐसे अनेक निर्णय लिए हैं जिससे अटल जी का नाम पीढ़ियों-पीढ़ियों तक चलता रहे।

नया रायपुर का नामकरण हुआ ‘अटल नगर’

डॉ. सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ की राजधानी नया रायपुर का नामकरण ‘‘अटल नगर’ कर दिया गया है, वहां स्थित सेंट्रल पार्क, बिलासपुर विश्वविद्यालय, राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज, मड़वा ताप बिजली परियोजना और रायपुर शहर का एक्सप्रेस वे भी अटल जी के नाम पर करने का निर्णय लिया गया है।

छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल की एक बटालियन का नामकरण पोखरण बटालियन, छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस राज्योत्सव के अवसर पर 1 नवंबर को त्रिस्तरीय पंचायतों और नगरी निकायों के लिए अटल बिहारी वाजपेई सुशासन पुरस्कार देने का निर्णय लिया है। कवियों के लिए अटल जी के नाम पर राष्ट्रीय पुरस्कार योजना शुरू की जा रही है। सभी जिला मुख्यालयों में अटल जी की प्रतिमा लगाई जाएगी। छत्तीसगढ़ बोर्ड की पाठ्यपुस्तकों में अटल जी की जीवनी पढ़ाई जाएगी। अटल नगर में भव्य अटल स्मारक बनाया जाएगा।

‘अटल विकास दूत’ गांवों से माटी एकत्र करेंगे

मुख्यमंत्री ने कहा कि हर गांव से सरकार की योजना के कम से कम एक हितग्राही ‘अटल विकास दूत’ के द्वारा ‘अटल पात्र’ में मिट्टी लाकर अटल नगर में अटल स्मारक स्थल पर रखी जाएगी। डोंगरगढ़ से अटल स्मारक के निर्माण हेतु मिट्टी संग्रहण की शुरुआत की जा चुकी है। अटल जी एक युगपुरुष थे, छत्तीसगढ़ के लिए उनका विशेष लगाव था।

वे छत्तीसगढ़ के निर्माता थे, इसलिए अटल स्मारक में सबका सार्थक योगदान होना चाहिए। अटल स्मारक अटल नगर के एकात्म पथ पर लगभग 5 एकड़ क्षेत्र में बनाया जाएगा, जो देश और दुनिया में अपनी तरह का अद्भुत स्मारक होगा। इस स्मारक स्थल पर स्मारक मूर्ति, ग्रीन लैंडस्केप, एम् पी थिएटर, संग्रहालय, व्याख्या केंद्र, पुस्तकालय, स्मारिका शॉप, कैफेटेरिया तथा सघन लैंडस्केप होंगे।

Summary
Review Date
Reviewed Item
‘रमन के गोठ’ : अटलजी ने छत्तीसगढ़वासियों को बनाया अपना भाग्य विधाता : डॉ. रमन 
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
advt