गुजरात चुनाव के कारण रामनाथ कोविंद को बनाया गया राष्‍ट्रपति : अशोक गहलोत

राष्ट्रपति चुनाव के संदर्भ में बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा

जयपुर: गुजरात विधानसभा चुनाव और राष्‍ट्रपति चुनाव के संदर्भ में बीजेपी पर निशाना साधते हुए जोधपुर के बावडी क्षेत्र में जनसभा को संबोधित करते हुए राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि गुजरात चुनाव के कारण रामनाथ कोविंद को राष्‍ट्रपति बनाया गया.

उन्‍होंने कहा, ”क्‍योंकि गुजरात के चुनाव आ रहे थे, वो घबरा चुके थे कि हमारी सरकार गुजरात में नहीं बनने जा रही…मेरा ऐसा मानना है कि रामनाथ कोविंद जी को बनाया (राष्‍ट्रपति), जातीय समीकरण बैठाने के लिए और आडवाणी साहब छूट गए.”

बीजेपी ने इस पर पलटवार करते हुए कहा कि अशोक गहलोत ने संवैधानिक पद का अपमान किया है. बीजेपी प्रवक्‍ता जीवीएल नरसिम्‍हा राव ने कहा कि संवैधानिक पद की गरिमा गिराना कांग्रेस की संस्‍कृति का हिस्‍सा है. कांग्रेस ने राष्‍ट्रपति पर गलत बयान दिया. कांग्रेस की मानसिकता दलित विरोधी है.

राजग सरकार के पास अनुभव की कमी

इससे पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सेना के राजनीतिकरण को लेकर केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए मंगलवार को कहा कि राजग सरकार में अनुभव की कमी है जिसके चलते सर्जिकल स्ट्राइक जैसी सैन्य कार्रवाई को भी बढ़ा-चढ़ाकर बताया जा रहा है.

जोधपुर के बावडी क्षेत्र में जनसभा को संबोधित करते हुए गहलोत ने कहा, ‘राजग सरकार में अनुभव की कमी है. सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक को अपनी उपलब्धि बताया है ऐसा इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ. तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के शासन के दौरान पाकिस्तान के दो टुकड़े हुए लेकिन उन्होंने इस बात का कभी दावा नहीं किया कि यह उनकी उपलब्धि है बल्कि उन्होंने इसका श्रेय सेना को दिया.’

उन्होंने कहा कि यह ऐतिहासिक घटना थी जिसमें पाकिस्तान के हजारों सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया था लेकिन इंदिरा गांधी ने सरकार की उपलब्धि के तौर पर इसका कभी बखान नहीं किया और हमेशा सेना को इसका श्रेय दिया.

गहलोत ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी के शासनकाल के दौरान भारत एक शक्तिशाली ‘सुपर पावर’ बना इसे लोगों को ध्यान में रखना चाहिए. मुख्यमंत्री ने मोदी पर झूठे वादे कर सत्ता में आने का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने कुछ नहीं किया और अपने वादों को पूरा करने में वे असफल रहे हैं. पिछले पांच साल में सरकार ने जनता के लिये क्या किया इसका मोदी को जवाब देना चाहिए.

1
Back to top button