धर्म परिवर्तन के विरुद्ध में खड़े हुए प्रतापपुर विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक एवं गृह मंत्री रामसेवक पैकरा

ब्युरो चीफ : विपुल मिश्रा संवाददाता : शिव कुमार चौरसिया

ज्ञात हो कि अमरजीत श्यामले अध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित जनजाति मोर्चा मंडल वाड्रफनगर जिला बलरामपुर छत्तीसगढ़ की ओर से सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के तहत जानकारी मांगी गई जिसमें की सर्व आदिवासी समाज जिला बलरामपुर रामानुजगंज छत्तीसगढ़ ने ज्ञापन सौंपकर जिलाधीश बलरामपुर की दुर्गा पूजा समारोह में लगाई जाने वाली प्रतिमा में महिषासुर का प्रतिमा न लगाई जाए एवम रावण का पुतला दहन न किया जाए।

भाजपा अजजा मोर्चा मंडल अध्यक्ष अमरजीत श्यामले ने जिलाधीश बलरामपुर से अनुरोध किया कि बलरामपुर रामानुजगंज से कुछ संज्ञान लेकर निम्न जानकारी प्रदान करने की कृपा करें:-
1. रावण और महिषासुर किस जाति संप्रदाय के हैं।
2. रावण और महिषासुर किस धर्म को मानते थे।
3. इनकी प्रतिमा लगाने या दहन करने से सर्व आदिवासी समाज को क्यों कष्ट है उनसे उनका क्या संबंध है।
4. क्या यह दोनों वीर धर्मांतरण किए थे।
5. इनके इतिहास एवं जीवनी का संक्षिप्त विवरण प्रदान करें ।

अमरजीत श्यामले अध्यक्ष भाजपा अजजा मोर्चा मंडल वाड्रफनगर जिला बलरामपुर रामानुजगंज छत्तीसगढ़ ने कहा कि सपने में आकर रावण द्वारा किए गए वरुण कृनंदन पर विचार एवं धर्म को राजनीति का आधार न बनाए जाने के संबंध में सौंपा गया ज्ञापन ज्ञात हो कि इस वर्ष नवरात्रि पर्व के प्रथम दिन गुरुवार को छःत्तीसगढ़ के पूर्व गृह मंत्री श्री रामसेवक पैकरा जी के नेतृत्व में ग्राम पंचायत गोंदला में धर्मांतरण के विरुद्ध आयोजित कार्यक्रम में सम्मिलित होने के पश्चात शाम को घर आए हम भोजन करके सो गये ।अर्ध रात्रि को मेरे सपने में दशानन रावण आये और बिलखते हुए फूट-फूट कर रोने लगे।

मेरे द्वारा पूछे जाने पर वे बोले कि पटेल जी मैं ब्रह्माजी के मानस पुत्र पुलत्स्य ऋषि का पौत्र विश्वा मुनि का औरस पुत्र उत्तम ब्राह्मण कुल में त्रेता युग में जन्म लिया था ।मेरा नाम लेकर यह कहा जाता है कि रावण जैसा विद्वान न भूतो न भविष्यति शास्त्र के अनुसार आदि काल में बैकुंठ में जय और विजय नाम के हम तो भगवान के पार्षद थे ब्रह्मा के मानस पुत्र सनक सुनंदन सनत सनातन बाल खिलाड़ियों के श्राप से राक्षस योनि प्राप्त किए उनके द्वारा हम लोगों के मोक्ष के उपाय में बताया गया था कि तुम तीन जन्म तक राक्षस योनि प्राप्त करोगे एवम उन तीनों जन्म में प्रभु तुम दोनों का वध करके भवसागर से पार उतारेंगे।

यह सब नर लीला कलयुग में मनुष्य को जीवन पथ प्रशस्त करने के लिए प्रभु ने किए थे। परंतु आज कुछ असामाजिक लोग राजनीतिक रोटी सेंकने के लिए जिलाधीश महोदय बलरामपुर को विजयदशमी के दिन मेरी बुराई की प्रतीक चिन्ह मेरी प्रतिमा न जलाय जाने हेतु ज्ञापन दिए हैं। जो गलत है क्योंकि वे लोग नहीं जानते की पूर्व जन्म में किए गए पाप का छय होता है और मेरे बैकुंठ में रहने की समय अवधि में वृद्धि होती है ।मेरा चचेरा भाई महिषासुर जो कश्यप मुनि एवम दनु औरस पुत्र रम्भ एवम महिषी के संसर्ग से उत्पन्न हुआ है ।उसका भी यही कहना है कि हम लोग धर्मांतरण नहीं किए हैं।

हमारा धर्म सनातन है। मरणोपरांत हम लोग लोगों का नाम बदनाम कर नरकगामी ना बनाएं इसकी जिम्मेदारी हम लोग सर्व हिंदू समाज को देते हैं। उनके द्वारा यह भी कहा गया कि हम लोगों के पक्ष में अकेला व्यक्ति छत्तीसगढ़ शासन के पूर्व गृह मंत्री रामसेवक पैकरा पद प्रतिष्ठा एवं वोट की चिंता किए बिना सनातन धर्म की रक्षा में खुल कर बोल रहे हैं हमारा साधुवाद हमेशा उनके साथ रहेगा ।उनका कहना है कि सभी लोग अपने धर्म में रहे कोई भी बहला-फुसलाकर झूठा प्रलोभन देकर धर्मांतरण न कराए कोई धर्म ऊंच-नीच नहीं है सभी धर्म समान है गलत करने वालों की पुतला दहन आज भी चौक चौराहा पर किया जाता है यदि हमारे गरीब भोले भाले अशिक्षित आदिवासियों को बहका कर धर्मांतरण कराया गया तो उसके विरुद्ध आंदोलन होगा श्री पैकरा जी का कहना है कि रावण ,महिषासुर ब्रह्मा और शंकर के उपासक थे। वे लोग हिंदू धर्म के अनुयाई थे धर्मांतरण कराने वाले लोग एक नया धर्म बताते हैं जो गलत है वैसे तो कुछ लोग हिंदू आस्था का केंद्र व बाबा बछराज किउंर के बारे में कहते हैं कि हम हिंदू नहीं है ।राम मंदिर के लिए चंदा देना आवश्यक नहीं है। ये देवी देवता हमारे नहीं हैं परन्तु वहां चढ़ने वाला बकरे का मुंडी हम जाती का है।रावण सपने में यह भी बोला कि मूर्ति दहन से हम लोगों को कोई कष्ट नही होता है।

अतः जिलाधीश से निवेदन है कि धर्म के नाम पर झूठा प्रलोभन देकर धर्मांतरण कराने की कोशिश करने वाले और दशानन रावण का नाम बदनाम करने वाले को उचित निर्देश देवें ओर कार्यवाही करें।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button