मनोरंजन

प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर पहुंचे रणबीर कपूर का भाई अरमान जैन

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अरमान को दूसरी बार समन किया

मुंबई:रणबीर कपूर के भाई अरमान जैन से टॉप सिक्योरिटी ग्रुप के 175 करोड़ रुपए के मनी लॉन्ड्रिंग केस में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) आज पूछताछ कर रही है. अरमान आज प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर पहुंचे.

ताजा खबरों की मानें तो प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अरमान को दूसरी बार समन किया है. इससे पहले 11 फरवरी को भी अरमान को ईडी ने समन किया था, लेकिन वह निजी कारणों का हवाला देकर ईडी के सामने उपस्थित नहीं हुए थे. जिस वजह से आज उन्हें प्रवर्तन निदेशालय बुलाया गया है.

अरमान जैन का नाम शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक के बेटे विहंग से दोस्ती की वजह से सामने आया. ये दोनों अच्छे दोस्त हैं. इसी दरम्यान टॉप्स ग्रुप घोटाला प्रकरण में चल रही जांच में अरमान जैन का नाम सामने आया शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक के बेटे विहंग की इस मामले में दो बार जांच हो चुकी है. विहंग के साथ कुछ वाट्स अप चैट से कुछ जानकारी सामने आई है जिसके बारे में ईडी को अरमान जैन से आज पूछताछ करनी है.

सोमवार को ओंकार रियल्टर्स के साथ 100 करोड़ के गैरकानूनी लेन देन में अभिनेता और उद्योगपति सचिन जोशी को ईडी ने अरेस्ट कर लिया था. अब इसके बाद ईडी अरमान जैन के खिलाफ कार्रवाई करने की तैयारी में है. अरमान जैन दिवंगत अभिनेता और निर्देशक राजकपूर के नाती और रणबीर कपूर और करीना कपूर की बुआ के बेटे हैं.

क्या है टॉप्स सिक्योरिटी घोटाला प्रकरण?

कुछ दिनों पहले टॉप सिक्योरिटी घोटाला प्रकरण सामने आया था. MMRDA (Mumbai Metropolitan Region Development Authority) में ट्रैफिक वार्डन की बहाली को लेकर घोटाला हुआ है. एमएमआरडीए को पांच सौ ट्रैफिक वार्डन की बहाली करने का कॉन्ट्रैक्ट टॉप्स सिक्योरिटी को मिला था. लेकिन टॉप्स सिक्योरिटी सिर्फ 75 प्रतिशत ट्रैफिक वार्डन की नियुक्ति कर रही थी और बाकी ट्रैफिक वार्डन की बहाली किए बिना है उसके पैसे कमा रही थी.

इस आरोप में टॉप्स सिक्योरिटी के मालिक राहुल नंदा और अन्य 11 लोग आरोपी हैं. इनमें से कुछ लोगों को अरेस्ट किया गया है. इस आरोप में शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक और उनके बेटे विहंग के संबंधों की जांच हुई है. ईडी को शक है कि अरमान जैन विहंग के इस काम में पार्टनर हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button