राज्य

रेप विक्टिम ने लगाई फांसी, बलात्कारी नहीं होने दे रहा था शादी!

दोषी जेल से छूटने के बाद फिर उसे परेशान कर रहा था।

बांदा। जिले में 17 वर्षीय किशोरी ने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिजनों का आरोप है कि करीब 10 वर्ष पूर्व उसके साथ दुष्कर्म हुआ था। दोषी जेल से छूटने के बाद फिर उसे परेशान कर रहा था। रिश्ता भी नहीं तय होने दे रहा था।

इसी से तंग आकर आत्महत्या की है। उधर, पुलिस मां की डांट से क्षुब्ध होकर आत्महत्या करना बता रही है। पैलानी थाना क्षेत्र के एक गांव में मंगलवार की रात अपने घर की अटारी में रस्सी बांधकर किशोरी फांसी पर झूल गई। घरवालों की नजर नहीं पड़ी।

देर तक उसकी आहट न मिलने पर उसकी तलाश की गई। शव अटारी में फांसी के फंदे पर टंगा मिला। पुलिस सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को फंदे से उतारकर पंचनामा भरा और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। किशोरी के पिता ने बताया कि करीब एक दशक पूर्व गांव के ही एक युवक ने उसकी बेटी के साथ दुष्कर्म किया था।

इसमें युवक को सजा हुई और सात साल जेल में रहा। कुछ दिनों पहले जेल से रिहा हुआ है। पिता ने आरोप लगाया कि वही युवक अब फिर उसकी बेटी को लगातार परेशान कर रहा था। जहां भी बेटी के रिश्ते की बात होती थी वह पुरानी घटना का हवाला देकर रिश्ता तय नहीं होने देता था।

इसी से तंग आकर किशोरी ने आत्महत्या कर ली। उधर, खप्टिहा पुलिस चौकी इंचार्ज दिनेश कुमार ने बताया कि मां की डांट से क्षुब्ध होकर फांसी लगाई है। चौकी प्रभारी ने यह भी कहा कि पिता दिव्यांग है। मजदूरी नहीं कर पाता। घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। मृतक किशोरी भी मजदूरी करती थी।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button