छत्तीसगढ़

मंदिर बनाने के बजाए मानव की सेवा करना ही धर्म : बृजमोहन

रायपुर : सेवा गंभीरता से करें। मंदिर बनवाने से ज्यादा बड़ा काम किसी गरीब का इलाज, शादी और पढ़ाई कराना है। मानव की सेवा ही धर्म है। आज-कल गंभीर बीमारी के खर्चें बहुत हैं। शिविर मौज-मस्ती के लिए नहीं बल्कि सेवा करने के लिए होते हैं। कैंसर का नाम सुनकर ही मरीज की आधी मृत्यु हो जाती है और वहीं उसका परिवार सदमे में आ जाता है। बड़ा आदमी तो कही चला जाता है और इलाज करा लेता है, लेकिन गरीब आदमी तो भगवान के भरोसे ही रहता है। रविवार को ये बातें प्रदेश के कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कही। मंत्री अग्रवाल रविवार शाम मारवाड़ी युवा मंच-संस्कार के तीन दिवसीय नि:शुल्क कैंसर परीक्षण शिविर के समापन समारोह में शामिल हुए।

शहर में कैंंसर का सबसे अच्छा सरकारी अस्पताल : मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि, 99 प्रतिशत मरीज को चौथे स्टेज में जाकर कैंसर का पता चलता है, तब तक देर हो जाती है। कैंसर लाइलाज बीमारी नहीं ,बस पहले या दूसरे स्टेज में पता चल जाए तो मरीज को बचाया जा सकता है। डर और भय मरीज को मार डालता है। मरीज के डर और भय को दूर करने के लिए मारवाड़ी युवा मंच-संस्कार का कार्य पूज्यनीय है। अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच की मोबाइल कैंसर स्क्रीनिंग वैन लोगों के डर और भय को दूर कर रही है। उन्होंने कहा कि, शहर में भी कैंसर का सबसे अच्छा सरकारी अस्पताल है, लेकिन कोई यहां जाता नहीं। लोग दिल्ली, मुंबई, वैल्लोर या कही बाहर जाकर इलाज कराते हैं, सब बाहर भागते हैं, यहां भी सुविधा है लेकिन लोगों को जागरूक करने की जरुरत है।

लोग सेवा को नहीं पैसों को पूजते हैं : मंत्री अग्रवाल ने कहा कि, आज लोग सेवा को नहीं पैसों को पूजते हैं। पता चला कि, कैंसर परीक्षण वैन 6 माह तक किसी एक राज्य में रहती है और इसमें रहने वाले लोग 6 माह तक वहां रहकर घूम-घूमकर लोगों की सेवा करते हैं। ये लोग पूज्यनीय हैं। यदि हम सेवा के भाव का सम्मान नहीं करेंगे तो हमारी भारतीय संस्कृति को कलंकित करेंगे। आज इस कैंसर परीक्षण वैन से जो जागृति आई है, हम कैंसर के खिलाफ अभियान चलाकर लोगों के मन से डर-भय निकालकर विश्वास पैदा कर सकते हैं। छत्तीसगढ़ शासन और मेरी तरफ से हरसंभव सहायता भी इस अभियान को दी जाएगी। मंत्री अग्रवाल ने कार्यक्रम में सहभागी पूरी टीम को शुभकाममनाएं और स्मृति चिन्ह देकर सम्मान किया।

अकेले चले थे कारवां जुड़ता गया : खंडेलवाल
कार्यक्रम की संयोजिका प्रार्र्थना खंडेलवाल ने कहा कि, अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचना चुनौती थी। चले तो अकेले थे और कारवां जुड़ता गया। प्रार्थना खंडेलवाल ने अपनी दो सगी बहनों का जिक्र कर कहा कि, दोनों को कैंसर था। इस गंभीर बीमारी से उनका परिवार टूट गया। अब वे लोगों को इस गंभीर बीमारी से बचाने सेवा कर रही हैं। उन्होंने कहा कि, समय पर कैंसर की स्क्रीनिंग हो जाने से लोगों को बचाया जा सकता है। अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच की यह वेन देश के 17 राज्यों में सेवा देकर पहली बार छत्तीसगढ़ आई है। इस वेन से अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचकर कैंसर की स्क्रीनिंग की जाएगी।

ढाई माह छत्तीसगढ़ में रहेगी वैन
शहर के शासकीय आयुर्वेदिक कॉलेज में तीन दिनों तक कैंसर परीक्षण शिविर में सेवा देने के बाद यह चलित कैंसर परीक्षण सेंटर (वाहन) राजधानी के जैन दादाबाड़ी में सोमवार को सेवा देगा। वहीं आगामी 15 दिसबंर यानी लगभग ढाई माह तक छत्तीसगढ़ के अलग-अलग शहरों में घूमेगी । जहां कैंसर का नि:शुल्क परीक्षण होगा। इस वाहन में 7 लोगों की टीम सेवा देती है। वहीं शहर के कैंसर स्पेश्लिस्ट अपनी सेवा देते हैं। सहयोग के लिए मेडिकल स्टाफ की एक टीम साथ रहती है।

1400 लोगों का हुआ परीक्षण : खंडेलवाल
राजधानी के आयुर्वेदिक कॉलेज में हुए इस तीन दिवसीय आयोजन की संयोजिका प्रार्र्थना खंडेलवाल ने कहा कि, 2000 से अधिक लोगों ने पंजीयन कराया था। इनमें से उपस्थित 1400 लोगों का कैंसर परीक्षण नि:शुल्क इन तीन दिनों में हुआ। इनमें से 700 संदेहियों का परीक्षण कैंसर मोबाइल वैन में किया गया। इनमें से 228 लोगों की विभिन्न जांच के बाद सैम्पल दिल्ली लेबोरेट्री भेजे गए। यह रिपोर्ट 1 सप्ताह बाद आएगी। कार्यक्रम में रोटरी एवं इनरहील क्लब रायपुर वेस्ट,रोटरी क्लब रायपुर मिलेनियम, जेसीआई मेडिको सिटी,जेसीआई रायपुर मेट्रो, जेसीआई स्टार और वीर फाउंडेशन का साथ और सहयोग रहा। शिविर में एनएच एमएमआई नारायणा , संजीवनी हॉस्पिटल की टीम ने सेवा दी। कार्यक्रम में मारवाड़ी युवा मंच-संस्कार के समस्त पदाधिकारी और सदस्य शामिल रहे। शिविर में आरडीए अध्यक्ष और भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव, छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल पहुंचे। स्पीकर अग्रवाल ने भी वैन में जांच करवाई।

Summary
Review Date
Reviewed Item
बृजमोहन
Author Rating
51star1star1star1star1star

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.