RAW और दिल्ली पुलिस ने तीन संदिग्धों को किया गिरफ्तार, RSS कार्यर्ताओं को मारने की थी प्लानिंग

इन आरोपियों का मकसद दक्षिण भारत के आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्या कर देश में दंगा भड़काने का मकसद था

नई दिल्ली।

रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) और दिल्ली पुलिस ने संयुक्त रूप से तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। ये आरोपी आईएसआई (ISI) और डी कंपनी से तालुकात रखते हैं।

इन आरोपियों का मकसद दक्षिण भारत के आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्या कर देश में दंगा भड़काने का मकसद था। आरोपियों में दो भारतीय है, और एक अफगानिस्तान का रहने वाला है।

जिनमें सोनू उर्फ तहसीम केरल का रहने वाला है, जबकि रियाजुद्दीन दिल्ली का निवासी है. सूत्रों का कहना है कि इनमें से एक आरोपी अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के करीबी गुलाम रसूल पट्टी का आदमी है.

फोन पर बातचीत से हुआ खुलासा

रसूल पट्टी के इस नापाक प्लान का खुलासा फोन इंटरसेप्ट से हुआ है. दरअसल, चार महीने पहले भारतीय एजेंसी ने एक फोन कॉल इंटरसेप्ट किया था, जिसमें दक्षिण भारत के कई इलाकों में आरएसएस से जुड़े प्रचारकों को मारने की बात की जा रही थी.

यह जानकारी मिलते ही दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल टीम ने तफ्तीश शुरू की और रॉ की मदद से एक संदिग्ध को केरल और दो को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया. इस पूरे ऑपरेशन में चौंकाने वाली

इन आरोपियों से पूछताछ में खुलासा हुआ है कि

इसके लिए वली मोहम्मद को खासतौर से ट्रेनिंग देकर काबुल से भारत भेजा गया था. इस पूरे खेल के पीछे वो शख्स बताया जा रहा है, जो हरेन पंड्या की हत्या की साजिश में शामिल रहा है.

इस शख्स का नाम है गुलाम रसूल पट्टी. ये गुजरात का ही रहने वाला है और वहां हुए 2002 में दंगों के बाद फरार हो गया था. अब आरएसएस नेताओं की हत्या की साजिश रच देश का माहौल बिगाड़ने का प्लान रचने वाला भी यह रसूल पट्टी बताया जा रहा है. एजेंसियों ने बताया कि रसूल पट्टी ने ही इस ग्रुप को लीड किया है.

1
Back to top button