बिज़नेसराष्ट्रीय

RBI ने बजाज फाइनेंस पर लगाया 2.5 करोड़ रुपये का जुर्माना

बजाज फाइनेंस पर गलत तरीके इस्तेमाल करते हुए ग्राहकों से वसूली करने का आरोप

नई दिल्ली: गैर-बैंकिंग वित्‍तीय सेवाएं देने वाली कंपनी बजाज फाइनेंस पर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने 2.5 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. बजाज फाइनेंस पर गलत तरीके इस्तेमाल करते हुए ग्राहकों से वसूली करने का आरोप है, जो कि रिजर्व बैंक के रेगुलेटरी नियमों के खिलाफ हैं. ग्राहकों की शिकायतों के बाद हुई कार्रवाई

रिजर्व बैंक का कहना है कि Bajaj Finance के खिलाफ ग्राहकों की कई शिकायतें मिल रहीं थीं. Bajaj Finance के खिलाफ रिकवरी और कलेक्‍शन के लिए गलत तरीकों (Recovery & Collection Methods) के इस्‍तेमाल की शिकायतों के बाद RBI ने ये एक्शन लिया है. Bajaj Finance के खिलाफ निष्पक्ष व्यवहार संहिता (FPC) के उल्लघंन की शिकायतें भी मिली थीं. ऐसे में कंपनी पर रेग्‍युलेटरी नियमों का उल्‍लंघन करने के लिए यह जुर्माना लगाया गया है.

ग्राहकों का उत्‍पीड़न नहीं रोक पाई कंपनी

Bajaj Finance पर RBI एक्‍ट, 1934 (RBI Act] 1934) की धारा-58G की उपधारा-1 के क्‍लॉज (B) को धारा-58B की उपधारा-5 के क्‍लॉज-aa के साथ पढ़ने पर मिली शक्तियों के तहत यह कार्रवाई की. रिजर्व बैंक आरबीआई के मुताबिक, कंपनी यह सुनिश्चित नहीं कर पाई कि जब उसके रिकवरी एजेंट ग्राहकों से वसूली करने जाएं तो उनका उत्‍पीड़न ना होने पाए.

Bajaj Finance रेगुलेटरी कंप्लायंस में फेल!

रिजर्व बैंक ने जुर्माना लगाने से पहले बजाज फाइनेंस को कारण बताओ नोटिस भी भेजा था, जिसमें रिजर्व बैंक ने पूछा था कि नियमों के उल्‍लंघन के मामले में क्‍यों ना कंपनी के खिलाफ जुर्माने की कार्रवाई की जाए. इस पर मिले जवाब के बाद RBI ने फैसला किया कि कंपनी पर जुर्माना लगाया जाना चाहिए. RBI ने कहा कि यह कार्रवाई रेगुलेटरी कंप्लायंस में कमियों पर आधारित है. साथ ही कहा कि जुर्माने की कार्रवाई का कंपनी की ओर से अपने ग्राहकों के साथ किए गए किसी भी लेनदेन या समझौते की वैधता पर सवाल उठाने का कोई इरादा नहीं है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button