RBI ने NBFC सेक्टर के नियमों में ढील, कर्ज की सीमा 10 से बढ़कर हुई 15 फीसदी

आरबीआई ने एक अधिसूचना में कहा कि यह फैसला तुरंत प्रभाव से लागू होगा

नई दिल्लीः भारतीय रिजर्व बैंक ने गैर-बैंकिंग वित्तीय कम्पनियों (एनबीएफसीज) और हाऊसिंग फाइनेंस कम्पनियों की तरलता बढ़ाने के लिए नए नियम जारी किए हैं।

यह कदम ऐसे समय उठाया गया है, जब एनबीएफसी क्षेत्र की आईएल एंड एफ.एस. समूह की कई कम्पनियां नकदी की कमी से जूझ रही हैं और अपनी देनदारियां चुकाने में डिफाल्ट कर रही हैं।

आरबीआई ने एक अधिसूचना में कहा कि यह फैसला तुरंत प्रभाव से लागू होगा। अब बैंक एनबीएफसी को 15 फीसदी तक कर्ज दे सकते हैं।

पहले यह सीमा 10 फीसदी थी। यह उन एन.बी.एफ.सी. कम्पनियों पर लागू होगा, जो अवसंरचना क्षेत्र को कर्ज नहीं देती हैं। यह सुविधा 19 अक्टूबर को एन.बी.एफ.सी./ एच.एफ.सी. पर बैंकों के बकाया कर्ज के स्तर से ऊपर दिए गए कर्ज के लिए होगी और आगामी दिसंबर तक जारी रहेगी।

Back to top button