दोनों पक्षों के बीच सुलह, पथराव करने वाले ग्रामीणों पर जुर्म दर्ज

अंकित मिंज

बिलासपुर/लोरमी। मुंगेली जिले के लोरमी क्षेत्र के झझपुरी कला में तनाव के बाद पुलिस ने शनिवार को बेरीकेट्स लगाकर ग्रामीणों को नजरबंद कर दिया। वहीं पूरे दिन दोनों पक्षों के बीच सुलह कराने के लिए अधिकारी जुटे रहे।

लगातार हुई बैठक के बाद देर शाम उनके बीच समझौता हो गया। वहीं पुलिस ने पथराव व तोड़फोड़ करने वाले दर्जन भर ग्रामीणों के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया है।
शुक्रवार की शाम गांव में समुदाय विशेष के धार्मिक आयोजन का दूसरे वर्ग के ग्रामीणों द्वारा विरोध करने पर तनाव फैल गया।

दोनों पक्षों के बीच जमकर मारपीट हुई। बलवा होने की खबर मिलते ही पुलिस गांव पहुंच गई। एसडीएम तहसीलदार व पुलिस अफसरों की मौजूदगी में ग्रामीणों को समझाइश दी जा रही थी। तभी पुलिस ने भीड़ को नियंत्रित करने बल प्रयोग शुरू कर दिया। इससे नाराज ग्रामीण आक्रोशित हो गए।

फिर उन्होंने पुलिस अफसर व जवानों पर पथराव करते हुए उनके वाहनों में तोड़फोड़ शुरू कर दी। पुलिस अफसर, एसडीएम व तहसीलदार व जवानों ने गांव से भाग कर जान बचाई। जिले के विभिन्न थानों के अलावा बिलासपुर, धमतरी व कवर्धा से भी बल बुलाया गया। देर रात तक पूरा गांव पुलिस छावनी में तब्दील हो गया।

इधर, पुलिस ने पथराव व तोड़फोड़ करने वाले ग्रामीणों पर आपराधिक प्रकरण दर्ज कर दर्जन भर ग्रामीणों को पकड़ लिया। शनिवार की सुबह गांव में धारा 144 लगा दी गई। बेरीकेट्स लगाकर ग्रामीणों को गांव से बाहर जाने से रोक दिया गया।

इसी तरह किसी को गांव में प्रवेश करने भी नहीं दिया गया। इस बीच पूरे दिन जिला व पुलिस प्रशासन के अधिकारी दोनों पक्षों की बैठक लेकर समझौता कराने की कोशिश करते रहे। आखिरकार, देर शाम प्रशासन ने दोनों पक्षों के बीच सुलह करा दी। बावजूद इसके गांव में तनाव के माहौल को देखते हुए बल की तैनाती की गई है।

advt
Back to top button