दंतेवाड़ा जिले के 69 मतदान केंद्रों को शिफ्ट करने की सिफारिश

दंतेवाड़ा : बस्तर लोकसभा क़े तहत दंतेवाड़ा जिले में कुल 273 मतदान केंद्र होंगे। इनमें 85 संवेदनशील और 157 अति संवेदनशील हैं। एक दिव्यांग और 5 संगवारी केंद्र भी होंगे। सुरक्षा के मद्देनजर 69 केंद्रों की शिफ्ट करने की सिफारिश की गई है। सुरक्षा के लिए जिले में अतिरिक्त 12 बटालियन की मांग की गई है। विशेष पुनरीक्षण में 472 मतदाताओं की बढ़ोतरी के साथ कुल 187407 मतदाता हैं। बस्तर लोकसभा के लिए निर्वाचन प्रक्रिया 18 मार्च से शुरू होगी।

यह जानकारी सोमवार को कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा और एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने संयुक्त पत्रवार्ता में दी। भारत निर्वाचन आयोग ने छग में लोकसभा निर्वाचन कार्यक्रम की घोषणा कर दी है। इसके साथ ही आदर्श संहिता और निर्वाचन प्रक्रिया शुरू हो गई। दंतेवाड़ा जिले में विधानसभा चुनाव की अपेक्षा लोकसभा में 472 मतदाता बढ़े है। कुल एक लाख 87 हजार 407 मतदाताओं के लिए कुल 273 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इनमें नदी पार सहित दूरस्थ इलाकों के 69 मतदान केंद्रों अन्यत्र शिफ्ट करने की सिफारिश चुनाव आयोग से की गई है। मीडिया से चर्चा करते कलेक्टर वर्मा ने बताया कि जिले करें 157 अतिसंवेदनशील और 85 संवेदनशील मतदान केंद्र हैं।

जबकि संगवारी मतदान केंद्र पांच और दिव्यांग कर्मचारियों की नियुक्ति वाला एक मतदान केंद्र दंतेवाड़ा में होगा। बताया गया कि चुनाव के लिए पीठासीन और मतदान अधिकारी-1 का प्रशिक्षण आज से शुरू हो गया है। जबकि पूर्व में नोडल अधिकारी , सेक्टर-जोनल अधिकारी, व्यय लेखा दल, मीडिया दल, एमसीसी, मास्टर ट्रेनर्स आदि का प्रशिक्षण पूर्ण कर लिया गया है। मीडिया से चर्चा के दौरान एएसपी सुरज कुमार परिहार, सीईओ जिपं सच्चिदानंद आलोक, डिप्टी कलेक्टर जीआर राठौर भी मौजूद थे।

बीएसएफ के 12 बटालियन पहुंचेगी दंतेवाड़ा :- लोकसभा चुनाव के दौरान पूर्व पदस्थ सीआरपीएफ और अन्य टुकड़ियों के अलावा बीएसएफ की 12 बटालियन सुरक्षा के लिए तैनात किए जाएंगे। यह संख्या पिछले चुनावों की अपेक्षा कम है। इसकी जानकारी देते एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने कहा कि नदी पार सहित संवेदनशील 69 मतदान केंद्रों को शिफ्ट करने की सिफारिश की गई है।

उम्मीद है प्रस्ताव को आयोग स्वीकार करेगा। उन्होंने बताया कि पूर्व में मौजूद फोर्स को सतर्क रहने की हिदायत दी जा चुकी है। आने वाली फोर्स को भी स्थानीय जवानों के साथ संलग्न किया जाएगा। एसपी के मुताबिक आदर्श आचार संहिता के चलते पूरे जिले में धारा 144 लागू है। किसी भी राजनीतिक दलों को रैली, सभा के लिए पूर्व अनुमति लेनी होगी। धार्मिक और निजी आयोजनों में भीड़ की संख्या को नियंत्रित रखने आयोजकों से कहा गया है।

Back to top button