छत्तीसगढ़

प्रदेश में जल्द शुरू होगी आयुर्वेद डॉक्टरों की भर्ती : सीएम

रायपुर : पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के सभागार में शुक्रवार को आयुर्वेद महासम्मेलन हुआ । इसका आयोजन छत्तीसगढ़ आयुर्वेद चिकित्सक महासंघ की ओर से किया गया। बतौर मुख्य अतिथि के रूप में डॉ . रमन सिंह ने कार्यक्रम ने शिरकत की।

डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि राज्य में आयुर्वेदिक डॉक्टरों के रिक्त पदों के लिए भर्ती प्रक्रिया जल्द शुरू की जाएगी। आयुर्वेद भारत की ही नहीं, बल्कि दुनिया की सर्वाधिक पुरानी चिकित्सा प्रणाली है। यह भारत की देन है। इसमें अनुसंधान कार्यों को बढ़ावा देने छत्तीसगढ़ सरकार हर संभव मदद करेगी। आयुर्वेद में हर बीमारी का इलाज संभव है। जरूरत इस बात की है कि आयुर्वेदिक चिकित्सा और औषधियों के क्षेत्र में भी आधुनिक तकनीकी का प्रयोग करके रिसर्च को बढ़ावा दिया जाए और दवाईयों की गुणवत्ता और विश्वसनीयता सुनिश्चित की जाए।

मुख्यमंत्री ने दिया आयुर्वेद का व्यवसाय बढ़ने का मंत्र : उन्होंने कहा कि हमारे पास आयुर्वेद के ज्ञान का भंडार भी है। आज जब जापान, कोरिया और चीन सहित अनेक देशों में आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति तेजी के साथ लोकप्रिय हो रही है। आयुर्वेद दवाओं के वैश्विक बाजार में भारत का हिस्सा मात्र 8 से 9 प्रतिशत है। इस बाजार पर चाइना और दूसरे देशों का कब्जा है। यदि हम अपनी आयुर्वेदिक दवाईयों की विश्व मानकों के अनुसार गुणवत्ता सुनिश्चित कर लें तो भारतीय आयुर्वेद दवाओं के व्यापार में सौ गुनी वृद्धि हो सकती है। उन्होंने कहा कि इसकी छत्तीसगढ़ में व्यापक संभावनाएं हैं।

महासम्मेलन में लोकसभा सांसद डॉ. बंशीलाल महतो, राज्यसभा सांसद डॉ. भूषण लाल जांगड़े, पद्मश्री से सम्मानित डॉ. महादेव प्रसाद पांडेय, पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर डॉ. एसके पांडेय और छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के सचिव पद्मश्री सम्मान से सम्मानित डॉ. सुरेन्द्र दुबे विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button
%d bloggers like this: