खेल

टेस्ट मैच में लाल गेंद को नियमित कर देना चाहिए: स्टीव स्मिथ

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहली बार कोई डे नाइट टेस्ट मैच खेला गया

नई दिल्ली: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहली बार कोई डे नाइट टेस्ट मैच खेला गया। वहीँ कुछ दिन पहले ही पूर्व ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज शेन वार्न ने टेस्ट क्रिकेट को गुलाबी गेंद के साथ ही खेलने जाने की बात कही थी।

वार्न ने इस मैच में उपयोग की जा रही गुलाबी गेंद के बारे में बात करते हुए कहा था कि टेस्ट मैच में इसी गेंद को नियमित कर देना चाहिए। दिन में खेले जाने वाले टेस्ट मैचों में लाल गेंद का इस्तेमाल किया जाता है। वार्न ने कहा था 25 ओवर की गेंदबाजी के बाद गेंद में किसी तरह की कोई हरकत नहीं होती है तो उसे गुलाबी गेंद से बदल दिया जाना चाहिए।

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ ने इस बारे में प्रतिक्रिया देते हुए कहा, मुझे नहीं लगता है कि ऐसा किया जाना चाहिए। मैं निजी तौर पर लाल गेंद की क्रिकेट को जिंदा देखना चाहूंगा। मुझे लगता है कि सीरीज के दौरान एक मैच या फिर ऐसा ही कुछ यह काफी है।

हमने एडिलेड में देखा, यह काफी अच्छा रहा, यह देखना काफी अच्छा लगा। हमने वहां डे नाइट मुकाबला काफी अच्छा खेला। मैं निजी तौर पर तो चाहूंगा की लाल गेंद का खेल जारी रहे। मैंने पिछले सालों में देखा है और मुझे लगता है कि गुलाबी गेंद को ही टेस्ट मैचों में इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

दिन के मुकाबलों में भी ना कि सिर्फ डे नाइट टेस्ट के दौरान। मुझे लगता है कि गुलाबी गेंद को देखने में आसानी होती है, दर्शक भी इसको आसानी से देख पाते हैं। यह लाल गेंद के मुकाबले ज्यादा अच्छा काम करती है और यह टीवी पर भी काफी अच्छी लगती है। तो क्यों नहीं गुलाबी गेंद को ही सभी टेस्ट मैच में इस्तेमाल किया जाए।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button