परिजनों को कोरोना वायरस की एक संदिग्ध मरीज का शव सौंपने से किया मना

अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को इस घटना की जांच के आदेश दिए

वलसाड: गुजरात में वलसाड के वापी में अस्पताल प्रबंधन ने कोरोना वायरस की एक संदिग्ध मरीज के शव के बदले में कार को जब्त कर लिया, और परिजन को बकाया बिल का भुगतान करने पर ही वाहन वापस लेने को कहा।

खबरों के जरिए इस कथित घटना का पता चलने पर वलसाड जिले के जिलाधिकारी आरआर रावल ने इस घटना की जांच के आदेश दिए। जिलाधिकारी ने कोरोना वायरस मरीजों का इलाज करने के लिए 21वीं सेंचुरी अस्पताल को दी गई अनुमति को भी रद्द कर दिया।

रावल ने कहा कि इसके अलावा, यह भी जांच का विषय है कि अगर महिला को एक संदिग्ध कोरोना वायरस मरीज के रूप में भर्ती कराया गया था तो अस्पताल ने शव परिजनों को कैसे सौंप दिया। हम जांच रिपोर्ट मिलने के बाद अस्पताल के खिलाफ उचित कार्रवाई करेंगे।

महिला के रिश्तेदार संजय हलपाति ने बताया कि कोरोना वायरस की संदिग्ध मरीज महिला को 31 मार्च को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसकी 12 अप्रैल को मौत हो गई।उन्होंने बुधवार को पत्रकारों से कहा कि हमने दाखिले के समय अस्पताल में 40,000 रुपये जमा किए थे।

उसकी मृत्यु के बाद, जब हमने शव देने मांग की, तो अस्पताल प्रबंधन ने हमें पहले बकाया राशि देने को कहा। उन्होंने हमें धमकी दी कि यदि हम बकाया राशि नहीं देते है तो अस्पताल शव का अंतिम संस्कार कर देगा।

उन्होंने दावा किया कि मैंने कहा कि मेरे पास पैसे नहीं हैं और उनसे मैंने एक दिन का समय देने का आग्रह किया, तो उन्होंने मेरी कार को गारंटी के रूप में रखने के लिए कहा। कार देने के बाद हमें शव सौंपा गया। फिर हमने बकाया राशि देने के बाद अगले दिन अपनी कार वापस ले ली।

अस्पताल के डा. अक्षय नाडकर्णी ने कहा कि हमने कभी किसी को बकाया राशि जमा करने के लिए मजबूर नहीं किया। हमने तब भी इलाज जारी रखा जब उन्होंने शुरुआत में केवल 40,000 रुपये जमा किए थे जबकि बिल दो लाख रुपये से अधिक पहुंच गया था।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button