प्रधानमंत्री और अमरीका के राष्‍ट्रपति के बीच क्षेत्रीय घटनाक्रम पर विचार-विमर्श किए जाने की सम्‍भावना

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी और अमरीका के राष्‍ट्रपति जो बाइडेन के बीच होने वाली द्विपक्षीय बातचीत में क्षेत्रीय घटनाक्रम पर विचार-विमर्श किए जाने की सम्‍भावना है। उन्‍होंने बताया कि कट्टरवाद को समाप्‍त करने और आतंकवाद से निपटने के तरीकों पर भी चर्चा हो सकती है। श्री मोदी की अमरीका यात्रा से पहले संवाददाताओं से बातचीत में श्री श्रृंगला ने बताया कि दोनों नेता रक्षा और व्‍यापार संबंध बढाने पर भी बातचीत कर सकते हैं।

श्री मोदी और श्री बाइडेन द्विपक्षीय बैठक में भारत-अमरीका वैश्विक भागीदारी को और मजबूत करने के उपायों पर बातचीत कर सकते हैं। विदेश सचिव ने यह भी कहा कि क्‍वाड और ऑकस एक जैसे समूह नहीं है। क्‍वाड का गठन भारत प्रशांत की आवश्‍यकताओं की पूर्ति के लिए किया गया है, जबकि ऑकस तीन देशों के बीच, सुरक्षा गठबंधन है। उन्‍होंने बताया कि ऑकस का क्‍वाड से कोई संबंध नहीं है इसलिए क्‍वाड के कामकाज पर उसका कोई प्रभाव नहीं पडेगा। श्री श्रृंगला ने बताया कि श्री मोदी, अमरीका यात्रा के दौरान संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा के 76वें सत्र को संबोधित करेंगे। वे अमरीका के शीर्ष मुख्‍य कार्यकारी अधिकारियों के साथ बैठक भी करेंगे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button