क्षेत्राधिकारी सदर मनीष सोनकर ने नौकरी से दिया इस्तीफा, जानिए वजह

कोरोना पीड़ित पत्नी और अपनी 4 साल की बेटी की देखभाल के लिए छुट्टी न मिलना इस्तीफा देने की वजह

लखनऊ:उत्तर प्रदेश में कोरोना पीड़ित पत्नी और अपनी 4 साल की बेटी की देखभाल के लिए छुट्टी न मिलने की वजह से झांसी के क्षेत्राधिकारी (CO) सदर मनीष सोनकर ने नौकरी से इस्तीफा दे दिया है. मनीष सोनकर ने झांसी के SSP रोहन पी कनय को राज्यपाल को संबोधित अपना इस्तीफा भेज दिया है.

SSP रोहन पी कनय का कहना है की इस्तीफे की जानकारी उच्च अधिकारियों को दी गई है, जिस पर सलाह मशवरा करने के बाद कोई फैसला लिया जाएगा. सीओ मनीष सोनकर 2005 बैच के पीपीएस अफसर हैं जो फिलहाल झांसी में सीओ सदर के पद पर तैनात हैं. परिवार में उनकी पत्नी और 4 साल की बेटी हैं, जो साथ में ही रहती हैं.

कोरोना काल के दौरान मनीष एक ही घर में पत्नी और बच्चे से अलग रह रहे थे. बताया जा रहा है कि उनकी पत्नी को तेज बुखार आ रहा था, 20 अप्रैल से खुद मनीष भी तेज बुखार से पीड़ित रहे. पांच बार उन्होंने टेस्ट कराया लेकिन कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट आई लिहाजा मनीष दवाइयों के साथ सरकारी ड्यूटी निभाते रहे.

मनीष की पत्नी होम्योपैथिक डॉक्टर है ,बताया जा रहा है पत्नी की देखरेख के चलते मनीष स्वस्थ हो गए और लॉकडाउन को लागू करवाने मीटिंग में मौजूद रहने, चेकिंग, क्राइम इन्वेस्टीगेशन के काम में लग गए.

30 अप्रैल को मनीष की पत्नी का रेंडम कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया, इसके चलते पत्नी को आइसोलेट करना पड़ा और 4 साल की बेटी के साथ मनीष उसी घर में अलग हुए और जिम्मेदारी मनीष के ऊपर आ गई. इसी बीच पंचायत चुनाव में मनीष की मतगणना में ड्यूटी लग गई थी.

मनीष ने टेलीफोन पर और एसएसपी को अपने हालातों की जानकारी देते हुए 1 मई से 6 दिन के लिए आकस्मिक अवकाश मांगा, लेकिन उनकी ड्यूटी 2 से 3 मई तक बड़ागांव ब्लॉक के पंचायत चुनाव की मतगणना में लगा दी गई. जिसके बाद मनीष ने नौकरी से इस्तीफा दे दिया.

बताया जा रहा है कि इस्तीफे के बाद एसएसपी ने उनको छुट्टी दे दी है. इस पूरे मामले पर एडीजी जोन कानपुर भानु भास्कर का कहना है कि मामला उनकी जानकारी में है और सहानुभूति पूर्वक उसे निपटाने की कोशिश की जा रही है.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button