मौसम से कहीं राहत तो कहीं आफत, उप्र में 13 की मौत

नई दिल्ली : झुलसा देने वाली भीषण गर्मी के बाद अब तेजी आंधी के साथ हुई बारिश कई जगह आफत बनकर आई। उत्तर प्रदेश में तेरह और जम्मू-कश्मीर में तीन लोगों की मौत हो गई। लू के कारण उड़ीसा में तीन और झारखंड में पांच लोगों की मौत हुई है।

राजस्थान और दिल्ली में धूल भरी आंधी चलने के कारण विमानों की आवाजाही प्रभावित हुई। देर रात तक 27 विमानों के उड़ान पर असर पड़ा था। इनमें घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों शामिल हैं। पटना से दिल्ली जा रहे विमान को मार्ग बदलकर वाराणसी एयरपोर्ट पर भेजा गया।

दिल्ली एयरपोर्ट पर नहीं उतर सका राजस्थान के सीएम का विमान
खराब मौसम के कारण राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का विमान बुधवार शाम को दिल्ली एयरपोर्ट पर नहीं उतर सका, जिसकी वजह से वह जयपुर लौट गए। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल का हेलीकॉप्टर की रोहतक में इमरजेंसी लैं¨डग करानी पड़ी। वह रेवाड़ी में कार्यकर्ता सम्मान समारोह के लिए जा रहे थे।

पूर्वांचल में धूल भरी तेज आंधी ने जमकर मचाई तबाही
उत्तर प्रदेश में बुधवार सुबह आई आंधी-बारिश ने गर्मी से थोड़ी राहत दी, लेकिन बिजली के खंभे व पेड़ इत्यादि गिरने से 13 लोगों की मौत हो गई, जबकि छह से अधिक जख्मी हो गए। पूर्वांचल में धूल भरी तेज आंधी ने जमकर तबाही मचाई। मरने वाले लोगों में आठ लोग गोरखपुर-बस्ती मंडल से हैं। सिद्धार्थनगर में चार लोगों की मौत हुई है। आगरा में दिन में तेज गर्मी के बाद शाम को बूंदाबूंदी हुई।

दिल्ली में 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली आंधी
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में दिनभर की गर्मी के बाद शाम को 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चली, जिसकी वजह से कई जगहों पर धूल का गुबार देखने को मिला। इस आंधी से दिल्ली का प्रदूषण स्तर भी एकदम से बढ़ गया। सीपीसीबी के अनुसार, कई जगहों पर साढे़ सात बजे प्रदूषण सामान्य से कई गुना तक अधिक रहा। पंजाब में लगभग सौ किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली हवाएं के साथ बारिश भी हुई। कुछ जगह ओले पड़े।

झारखंड अोडिशा में लू से 8 लोगों की मौत
झारखंड में तेज हवाओं के साथ कई जिलों में बारिश भी हुई, लेकिन लू से राहत नहीं मिली। गढ़वा, पलामू और सिमडेगा में लू से पांच लोगों की मौत हो गई। ओडिशा में लू के कारण तीन लोगों की मौत हो गई है।

पहाड़ों पर राहत, मसूरी में गिरा तापमान
उत्तराखंड में पहाड़ से मैदान तक लोगों ने राहत महसूस की है। मसूरी, नैनीताल, अल्मोड़ा और पिथौरागढ़ जैसे हिल स्टेशन में हुई बारिश के बाद पारा सामान्य के आसपास पहुंच गया। टिहरी, उत्तरकाशी, पौड़ी, चमोली, रुद्रप्रयाग एवं हरिद्वार जिले में तेज हवाओं के साथ हुई बारिश की बौछारों से जंगलों में भड़की आग भी बुझ गई।

देहरादून में पिछलों दो दिनों से पारा सामान्य से पांच डिग्री अधिक 40 डिग्री सेल्सियस के आसपास जबकि मसूरी में पारा सामान्य से सात डिग्री अधिक 30 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुंच गया था।

new jindal advt tree advt
Back to top button