रेमडेसिविर दवा को निर्यात की निषिद्ध श्रेणी से हटाकर प्रतिबंधित श्रेणी में रखा गया

टॉसिलिजुमाब केवल आयात के जरिये देश में उपलब्ध होता है।

new delhi: रसायन और उर्वरक मंत्री मनसुख मांडवीया ने स्पष्ट किया है कि 14 जून से रेमडेसिविर दवा को निर्यात की निषिद्ध श्रेणी से हटाकर प्रतिबंधित श्रेणी में रखा गया है। आज लोकसभा में एक लिखित उत्तर में उन्होंने कहा कि यह कदम रेमडेसिविर की घटती मांग और बढ़ती आपूर्ति को देखते हुए उठाया गया।

रसायन और उर्वरक मंत्री ने बताया कि टॉसिलिजुमाब की मांग और आपूर्ति स्थिति भी काफी स्थिर है और कुछ राज्य टॉसिलिजुमाब की विपणन करने वाली कंपनियों को केंद्र से आवंटित मात्रा में ऑर्डर भी नहीं दे रहे हैं।

श्री मांडवीया ने कहा कि रेमडेसिविर भारत में बनाया जाता है जबकि टॉसिलिजुमाब केवल आयात के जरिये देश में उपलब्ध होता है।

उन्होंने कहा कि रेमडेसिविर के सात घरेलू निर्माताओं के सामूहिक प्रयासों और औषधि महानियंत्रक द्वारा तुरंत मंजूरी दिये जाने से इस वर्ष मध्य अप्रैल में रेमडेसिविर के लाईसेंस प्राप्त उत्पादन स्थलों की संख्या 22 से बढ़कर अब 62 हो गयी है।

उन्होंने बताया कि रेमडेसिविर की घरेलू उत्पादन क्षमता मध्य अप्रैल के 38 लाख वॉयल प्रति माह से बढ़कर अब 122 लाख वायल प्रतिमाह हो गयी है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button