अपने अतीत को याद करें राहुल: कौशिक

सिख दंगे और आपातकाल की दिलाई याद

रायपुर। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि राहुल गांधी भाषाई गरिमा से दूर असंसदीय भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं। लोकतंत्र की परम्परा को मजबूत करने के लिए हमें हमेशा संसदीय भाषा का अनुसरण चाहिए। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को अपने अतीत में जाकर अध्ययन करना चाहिए। देश ने आपातकाल दौरान लोकतांत्रिक संस्थाओं पर सेंसरशिप देखा है और छत्तीसगढ़ ने कांग्रेस की भय के वातावरण वाली सरकार देखी है।

उस समय लोकतांत्रिक संस्थाओं पर कितना दबाव सरकार का था सब जानते है। उन्होंने कहा बेगुनाह हजारों सिक्खों की हत्या कर दी गई थी। इस हिंसा में किसका हाथ है इसे बताने की जरूरत नहीं है। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष कौशिक ने कहा कांग्रेस ने नारा दिया है वक्त है बदलाव का जिसे देश की जनता सच करती दिख रही है। जिसका एक ताजा उदाहरण है कर्नाटक जहां जनता ने कांग्रेस को परास्त कर बदल दिया है। उन्होंने कहा राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी केवल काल्पनिक बातें कर देश को दिग्भ्रमित करने में लगे हुए हैं.

जिसका जवाब लगातार देश की जनता कांग्रेस को दे रही है। घटते जनाधार के बीच राहुल गांधी लगता है मानसिक रूप से परेशान हैं इसलिए वो जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं इससे लगता है कि उन्हें आने वाले दिनों में विशाल पराजय का भय सताने लगा है। कौशिक ने कहा जनसम्पर्क यात्रा के बाद विकास यात्रा में जनमानस का व्यापक जनसमर्थन मिल रहा है। चौथी बार हमारी सरकार बनना तय है। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी अपने कमजोर कुनबे की चिंता करें और संसदीय परम्पराओं का ख्याल भी रखें।

Back to top button