रेणुका को मंत्री बनाकर केंद्रीय नेतृत्व ने बरकरार रखा रमन सिंह का कद

मोदी मंत्रिमंडल में छत्तीसगढ़ को भी प्रतिनिधित्व मिला

रायपुर: राष्ट्रपति भवन में गुरुवार शाम 7 बजे आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में मंत्रिमंडल पद की गोपनीयता बनाए रखने की शपथ लेते हुए रेणुका सिंह प्रधानमंत्री मोदी के मंत्रिमंडल में शामिल हुई। रेणुका सिंह का नाम चौकाते हुए सबके सामने आया, क्योंकि उससे पहले राज्यसभा सांसद व राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडेय की दावेदारी ही सबसे मजबूत मानी जा रही थी।

सरगुजा से सांसद रही रेणुका सिंह राज्य मंत्री बनी

अगर ऐसा होता, तो निश्चित ही राजनीतिक तौर पर ये रमन सिंह के लिए बड़ा झटका होता, लेकिन केंद्रीय संगठन ने आदिवासी और महिला कोटे के नाम पर रेणुका सिंह को मंत्री पद के लिए नाम आगे बढ़ाकर रमन सिंह का कद बरकरार रखा है। मोदी मंत्रिमंडल में छत्तीसगढ़ को भी प्रतिनिधित्व मिला है। सरगुजा से सांसद रही रेणुका सिंह राज्य मंत्री बनी है।

जानकारों का कहना है कि सरोज पांडेय का मंत्री बनना एक तरह से छत्तीसगढ़ में रमन युग के निष्प्रभावी होने के तौर पर मान लिया जाता, क्योकि सरोज का कद और औरा ऐसा है, जिसके बाद केंद्र से लेकर राज्य तक में निश्चित ही रमन की स्थिति कमजोर होती। ऐसे में रेणुका सिंह के मंत्री बनने से फिलहाल रमन सिंह के लिए दूर-दूर तक कोई खतरा नहीं दिख रहा है।

राजनीतिक जानकारों का मानना है कि रेणुका सिंह अभी फिलहाल रमन सिंह को अंडर स्टीमेट करने की जुर्रत नहीं करेगी। इसकी दो वजह है, पहली तो यही कि रेणुका का कद अभी उतना ज्यादा ऊंचा नहीं है कि वो रमन सिंह के लिए खतरा बने या फिर उन्हें चुनौती दे और दूसरी बात ये कि रेणुका को सांसद का टिकट दिलाकर एक तरह से रमन सिंह ने ही उनके राजनीतिक जीवन में संजीवनी देने का काम किया है।

रमन सिंह को भी केंद्रीय मंत्री का दावेदार कहा जा रहा था, मंत्री नहीं बनाये जाने पर बेशक ही वो मायूस हुए होगें, लेकिन केंद्रीय संगठन ने जिस तरह से सरोज पांडेय की जगह रेणुका को मौका दिया, उससे उनकी मायूसी का गम जरूर कम हो गया होगा।

Back to top button