छत्तीसगढ़

रेडियस वाटर मामले में भ्रष्टाचार के आरोपी अधिकारी को बचाना भाजपा के चरित्र को कर रहा उजागर: शैलेश नितिन त्रिवेदी

रायपुर: छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार ने रेडियस वाटर घोटाले के मामले के आरोपी जी एस. मिश्रा को उनके पद से हटाने का निर्णय लिया। भ्रष्टाचार के आरोपी अधिकारी का निर्वाचन आयोग जैसे महत्वपूर्ण पद पर बने रहना सही निर्णय, उचित निर्णय नहीं था। रेडियस घोटाले के आरोपी के खिलाफ जनप्रतिनिधियों से प्राप्त शिकायत के बाद छत्तीसगढ़ के कांग्रेस सरकार द्वारा घोटालेबाज अधिकारी को हटाने का निर्णय लिया गया।

इस निर्णय के खिलाफ रेडियस वाटर मामले में भ्रष्टाचार के आरोपी अधिकारी को बचाने भाजपा सांसदों द्वारा केंद्रीय मंत्री तोमर से गुहार लगाना भाजपा के चरित्र को उजागर करता है। लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार भाजपा के सांसद किसी केन्द्रीय मंत्री से मिले वो भी एक घोटालेबाज अधिकारी पर कार्यवाही को रोकने की मांग को लेकर।

कांग्रेस प्रदेश महामंत्री एवं मीइद्य प्रभारी शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कुपोषण की भयावह समस्या है। 15 वर्ष के भाजपा शासन के बाद कुपोषण विरासत के रूप में छत्तीसगढ़ के कांग्रेस सरकार को मिली है। भाजपा के निर्वाचित सांसदों ने कुपोषण को हटाने कोई पहल की होती तो अच्छा होता। भाजपा के केन्द्र सरकार के आंकड़ों के मुताबिक लोकसभा में की गई आंकड़ों के मुताबिक छत्तीसगढ़ में 51.10 प्रतिशत बच्चे कुपोषण के शिकार हैं।

अनेक बच्चे एनीमिया के शिकार है। महिलायें 45.7 प्रतिशत कुपोषण का शिकार है। ये जो स्थिति है इस स्थिति के लिये भाजपा के सांसदों ने कोई पहल नहीं की और चुने जाने के बाद पहली बार मिले तो क्यों मिले? एक भ्रष्टाचार के आरोपी अधिकारी का पक्ष लेते हुये इससे भाजपा का चरित्र उजागर होता है। वन अधिकार पट्टे का गंभीर मामला है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट तक बात अटकी हुई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी ने तो किसान सम्माननिधी 6000 से बढ़ाकर 12,000 वन अधिकार पट्टे वाले किसानों के लिये मांग की है।

मिट्टी तेल के कोटे में कटौती का मामला

इंद्रावती के पानी में उड़ीसा के साथ जो अंतर्राज्यीय विवाद का मामला है। इतने बड़े सांसद जिन्हें जनता ने अपना विश्वास सौपा । इसलिये तो नहीं सौपा था कि भ्रष्टाचार के आरोपियों के ये बचाव करें और जिस संविधन की बात इन लोगों ने की है कांग्रेस पार्टी का मानना है कि भ्रष्टाचार के आरोपी अधिकारी का इस पद में बने रहना संविधान के लिये ज्यादा खराब स्थिति है। ज्यादा संवैधानिक संकट है, इन सांसदों को कम से कम इस बात की तो चिंता करना था।

भाजपा अपने असली चरित्र में –गिरीश देवांगन

प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी महामंत्री गिरीश देवांगन ने कहा कि रेडियस वाटर घोटाला के आरोपी अधिकारी पर की गयी कार्यवाही का विरोध कर भाजपा ने अपने असल चरित्र को ही सामने लाया है। 15 साल तक भाजपा के शासनकाल में हुई कमीशनखोरी, भ्रष्टाचार, घोटाला में संलिप्त अधिकारियों पर हो रही कार्यवाही का विरोध कर भाजपा ने अपने सहयोगियों को बचाने का काम किया है। बीते सालों की अपेक्षा राज्य की कांग्रेस सरकार ने धान की खरीदी अधिक मात्रा में की है।

किसानों को धान का मूल्य 2500 रू. प्रतिक्विंटल दिया गया। धान की खरीदी अधिक मात्रा में होने के कारण धान की सुखत की मात्रा भी बढ़ी है। 2017 में हुयी धान खरीदी की मात्रा के अनुसार हुई धान की सुखत से 2018 में खरीदी गयी धान की मात्रा के अनुसार सुखत कम है। धान के शार्टेज की जांच की जायेगी। जिम्मेदारों पर कार्यवाही होगी।

Tags
Back to top button