ब्रह्मांड के जन्म से 25 करोड़ वर्ष बाद बने झिलमिल सितारे

वैज्ञानिकों के शोध से हुआ खुलासा, शोध रिपोर्ट प्रकाशित

ट्विंकल-ट्विंकल लिटिल स्टार, हाउ आई वंडर व्हाट यू आर…

इस कविता को बचपन से हम लोग पढ़ते हैं। वाकई टिमटिमाते ये तारे आश्चर्यजनक हैं। तारों के बारे में रहस्य की कई पर्तें उधड़ चुकी हैं, लेकिन जानकारियां नित नई आती रहती हैं।

अब एक नई जानकारी सामने आई है। अब कहा जा रहा है कि ये तारे तो ब्रह्मांड बनने के 25 करोड़ साल बाद बने।

पृथ्वी से 13.28 अरब प्रकाश वर्ष दूर स्थित एक आकाशगंगा का अध्ययन करने वाले वैज्ञानिकों का कहना है कि शुरुआती तारों का निर्माण ब्रह्मांड बनने के 25 करोड़ साल बाद हुआ होगा।

ब्रह्मांड का जन्म एक महा विस्फोट से हुआ जिसे बिग बैंग भी कहा जाता है। वैज्ञानिकों ने अपने निष्कर्ष के लिए एटाकामा लार्ज मिलीमीटर एरे (एएलएमए) का इस्तेमाल किया।

एएलएमए ने तारों के एक समूह से ऑक्सीजन के बाहर निकलने के स्पष्ट संकेत पाए। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि यह तारामंडल तब बना जब ब्रह्मांड केवल 50 करोड़ साल पुराना था। एमएसीएस 1149- जेडी 1 नाम के इस तारामंडल में ऑक्सीजन के संकेत मिले हैं।

इस तारामंडल ने बिग बैंग के 25 करोड़ साल बाद तारे बनाने शुरू किए होंगे। वैज्ञानिकों का यह शोध हाल ही में एक विज्ञान पत्रिका में छपा है।

Back to top button