आरक्षण मांग रही भीड़ बरसी हेड कांस्टेबल पर, कांस्टेबल की गई जान

इस मामले में पुलिस ने देर रात तक विभिन्न थानों में दो सौ से अधिक अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

गाजीपुर।
उप्र के गाजीपुर में आरक्षण की मांग करने वाली भीड़ ने शनिवार को हेड कांस्टेबल को पीटकर मार डाला। वह निषाद पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा लगाए गए सड़क जाम को हटवाने गए थे।

हेड कांस्टेबल का नाम सुरेश प्रताप वत्स (48) है जो जिले के करीमुद्दीनपुर थाने में तैनात थे। इसके अलावा दो अन्य लोग घायल हुए हैं।

हाल ही में बुलंदशहर में हुई हिंसा में एक इंस्पेक्टर की मौत के बाद सूबे में इस तरह की दूसरी घटना है। इस घटना के बाद कानून व्यवस्था को लेकर फिर से बड़े सवाल खड़े हो गए हैं।

इस मामले में पुलिस ने देर रात तक विभिन्न थानों में दो सौ से अधिक अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

घटना के बाद डीएम व एसपी मौके पर पहुंचे, तो आरोपित भाग निकले। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हेड कांस्टेबल की हत्या पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

उन्होंने हेड कांस्टेबल की पत्नी को 40 लाख रुपए और उनके माता-पिता को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दिए जाने की घोषणा की है।

साथ ही, पत्नी को असाधारण पेंशन और परिवार के एक सदस्य को मृतक आश्रित के तौर पर सरकारी नौकरी देने की घोषणा भी की है।

मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को घटना के दोषियों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई का निर्देश दिया है।

आरक्षण की मांग को लेकर जिलेभर के निषाद पार्टी के कार्यकर्ता जिला मुख्यालय पर धरना देने आ रहे थे। प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को देखते हुए उन्हें पुलिसकर्मियों ने जगह-जगह रोक दिया।

इससे नाराज कार्यकर्ता सैदपुर, करंडा थाना क्षेत्र के भटौली व नोनहरा थाना क्षेत्र के कठवामोड़ मंगई नदी के पुल पर धरने पर बैठ गए।

शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा समाप्त हुई और कार्यक्रम में आए लोग लौटने लगे, तो कठवामोड़ के पास इन कार्यकर्ताओं ने गाजीपुर-मुहम्मदाबाद मार्ग पर जाम लगा दिया।

जाम खुलवाने के लिए ड्यूटी से थाने लौट रहे करीमुद्दीनपुर थानाध्यक्ष को निर्देश दिया गया।

वह पुलिसकर्मियों संग जाम स्थल पर पहुंचे और कार्यकर्ताओं को समझाने लगे। उसी दौरान कार्यकर्ता उग्र हो गए और पथराव करने लगे जिससे भगदड़ मच गई।

इसी बीच निषाद पार्टी के कार्यकर्ताओं ने करीमुद्दीनपुर थाने में तैनात प्रतापगढ़ जिले के लच्छीपुर गांव निवासी हेडकांस्टेबल सुरेश प्रताप को दबोच लिया और जमकर पिटाई कर दी।

सिर में गंभीर चोट लगने के कारण वह मौके पर ही बेहोश हो गए। पुलिसकर्मियों ने हमलावरों को खदेड़कर सुरेश को छुड़ाया। लहूलुहान हाल में सुरेश को जिला अस्पताल लाया गया, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

भाजपा कार्यकर्ताओं के वाहनों पर भी किया पथराव

प्रधानमंत्री के कार्यक्रम से लौट रहे भाजपा नेताओं के वाहनों पर भी निषाद पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पथराव कर दिया। इससे दोनों पक्षों में तकरार भी हुई।

new jindal advt tree advt
Back to top button