सेवानिवृत्त एसईसीएल कर्मियों को आसानी से प्राप्त होगा ‘जीवन प्रमाण पत्र’

एसईसीएल के सेवानिवृत्त अब अपने जीवन प्रमाण पत्र (लाइफ सर्टिफिकेट) को जीवन प्रमाण आवेदन के माध्यम से निकटतम नागरिक सेवा केंद्र (सिटीजन सर्विस सेंटर-सीएससी) या ऐसे बैंकों में जहां यह सुविधा उपलब्ध है, में जाकर ऑनलाइन जमा करा सकेंगे.

कोल इंडिया लिमिटेड की अनुषंगी कम्पनी साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड के सेवानिवृत्त कामगार भारत सरकार के “जीवन प्रमाण पोर्टल” पर ऑनलाइन डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र बनाने के लिए एक बायोमेट्रिक सक्षम डिजिटल सेवा का उपयोग कर सकेंगे यह सुविधा सेवानिवृत्त कामगारों और उनके जीवनसाथी के लिए उपलब्ध है.

एसईसीएल के सेवानिवृत्त अब अपने जीवन प्रमाण पत्र (लाइफ सर्टिफिकेट) को जीवन प्रमाण आवेदन के माध्यम से निकटतम नागरिक सेवा केंद्र (सिटीजन सर्विस सेंटर-सीएससी) या ऐसे बैंकों में जहां यह सुविधा उपलब्ध है, में जाकर ऑनलाइन जमा करा सकेंगे.

सीपीआरएमएसई (कोंट्रीब्यूटरी पोस्ट रिटायरमेंट मेडिकेयर स्कीम) के लाभार्थियों के आधार के साथ पंजीकृत मोबाइल नम्बर से उनका प्रमाणीकरण करने के पश्चात, आधार सक्षम बायोमेट्रिक डिवाइस द्वारा फिंगरप्रिंट लेकर जीवन प्रमाण पत्र आसानी से प्राप्त हो जाएगा.

इस सुविधा के माध्यम से सीपीआरएमएसई के लाभार्थी काग़ज़ रहित प्रक्रिया से जीवन प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने में सक्षम होंगे.

गौरतलब है कि पेंशनभोगियों को सेवानिवृत्ति के बाद, बैंक, डाकघरों जैसी अधिकृत पेंशन संवितरण एजेंसियों के सामने स्वतः उपस्थित होना होता है या फिर उस कंपनी या प्राधिकरण द्वारा जारी किया गया जीवन प्रमाण पत्र प्रदान करना होता है.

इसके बाद ही उनकी पेंशन उनके खाते में जमा की जाती है। यह विशेष रूप से वृद्ध और बीमार पेंशन भोगियों के लिए बहुत कठिनाई और अनावश्यक असुविधा का कारण बनता था जो हमेशा अपने जीवन प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए विशेष प्राधिकरण के सामने खुद को पेश करने की स्थिति में नहीं होते हैं. जीवन प्रमाण पत्र हासिल करने की पूरी प्रक्रिया सुव्यवस्थित व आसान होने से डिजिटल पेंशनभोगियों को पेंशन एवं अन्य चिकित्सीय लाभ प्राप्त करने में होने वाली परेशानी से निजात मिलेगी.निकटतम नागरिक केंद्र का पता “https://locator.csccloud.in ” से भी पता किया जा सकता है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button