छत्तीसगढ़

सेवानिवृत्त कर्मी अब कोलइण्डिया की चिकित्सीय सुविधा का लाभ प्राप्त करने हेतु जीवन प्रमाण पोर्टल के माध्यम से दे सकते हैं लाईफ सर्टिफिकेट

सेवानिवृत्त कर्मी अब कोलइण्डिया की चिकित्सीय सुविधा का लाभ प्राप्त करने हेतु जीवन प्रमाण पोर्टल के माध्यम से दे सकते हैं लाईफ सर्टिफिकेट

बिलासपुर : सेवानिवृत्त कर्मी अब कोलइण्डिया की चिकित्सीय सुविधा का लाभ प्राप्त करने हेतु जीवन प्रमाण पोर्टल के माध्यम से दे सकते हैं लाईफ सर्टिफिकेट

कोल इण्डिया लिमिटेड और उसकी सहायक कंपनियों में सेवानिवृत्त कर्मियों को कम्पनी द्वारा कान्ट्रिब्यूटरी पोस्ट रिटायरमेंट मेडिकेयर स्कीम फाॅर एक्सिक्यूटिव्स (सीपीआरएमएसई) के माध्यम से चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। यह सुविधा प्राप्त करने के लिए कम्पनी के सेवानिवृत्त कर्मियों को नियमित अंतराल में कम्पनी में लाईफ सर्टिफिकेट प्रस्तुत करना होता है। अब यह कार्य भारत सरकार की जीवन प्रमाण पोर्टल के माध्यम से किसी भी जगह से सरलतापूर्वक किया जा सकता है।

जीवन प्रमाण पोर्टल

सेवानिवृत्त कर्मी जिन्हें कम से कम एक महिने का पेंशन भुगतान किया गया है वे अपना लाईफ सर्टिफिकेट आॅनलाईन जीवन प्रमाण पोर्टल के माध्यम से निकटतम नागरिक सेवा केन्द्र (सीएससी) या बैंकों, जिनमें यह सुविधा उपलब्ध है, में जाकर कर सकते हैं। जीवन प्रमाण पोर्टल सेवानिवृत्त कर्मियों का बायोमेट्रिक रूप से सक्षम डिजिटल सेवा है एवं इसका उपयोग कोल इण्डिया लिमिटेड के सभी कर्मी एवं उनकी पत्नी द्वारा किया जा सकता है।

इस सुविधा का उद्घाटन कोल इण्डिया लिमिटेड के चेयरमेन श्री प्रमोद अग्रवाल ने कोल इण्डिया के निदेशक मण्डल की उपस्थिति में किया।

लाईफ सर्टिफिकेट बाॅयोमेट्रिक डिवाइस

सीपीआरएमएसई लाभार्थी को इस सुविधा का लाभ लेने हेतु अपने आधार कार्ड एवं उसके साथ पंजीकृत मोबाईल की आवश्यकता होगी। प्रक्रिया के दौरान मोबाईल में प्राप्त ओटीपी के माध्यम से प्रमाणीकरण किया जाएगा। लाईफ सर्टिफिकेट बाॅयोमेट्रिक डिवाइस द्वारा फिंगरप्रिंट सत्यापन के बाद जारी होता है। इस सुविधा से सीपीआरएमएसई लाभार्थी लाईफ सर्टिफिकेट कागज रहित मोड में जमा कर सकेंगे। नजदीकी सिटीज़न सेन्टर जिसमें यह प्रक्रिया उपलब्ध हो की जानकारी वेबसाईट- ीजजचेरूध्ध्सवबंजवतण्बेबबसवनकण्पद पर ली जा सकती है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button