मनोरंजनराष्ट्रीय

खुलासा: क्षितिज प्रसाद ने कथित तौर पर 3 महीने में एक दर्जन बार खरीदा था ‘गांजा’

इस प्रतिबंधित सामग्री की 50 ग्राम मात्रा के लिए हर बार 3,500 रुपये का भुगतान किया गया

नई दिल्ली:नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की ओर से सुशांत सिंह राजपूत केस से जुड़े ड्रग्स मामले में पिछले हफ्ते गिरफ्तार किए गए फिल्म प्रोड्यूसर क्षितिज प्रसाद से बड़ा खुला हुआ है.

दरअसल धर्मा प्रोडक्शंस के पूर्व कार्यकारी निर्माता क्षितिज प्रसाद ने कथित तौर पर 3 महीने में एक दर्जन बार ‘गांजा’ खरीदा था. इस प्रतिबंधित सामग्री की 50 ग्राम मात्रा के लिए हर बार 3,500 रुपये का भुगतान किया गया. क्षितिज की गिरफ्तारी शनिवार को हुई थी.

दस्तावेज और गैजेट्स बरामद

एनसीबी के सूत्रों ने बताया है कि शुक्रवार को उसके घर पर तलाशी में गांजा का सेवन करने के अवशेष, कुछ दस्तावेज और गैजेट्स बरामद किए गए थे. यह भी पता चला है कि कथित पेडलर अंकुश अरनेजा ने पूछताछ के दौरान संकेत हनुमान चंद पटेल की पहचान क्षितिज के ड्रग्स सप्लायर के तौर पर की थी. इसी खुलासे के बाद पटेल की गिरफ्तारी हुई, जिसने एक और आरोपी करमजीत का नाम लिया.

एनसीबी के सूत्र ने कहा कि क्षितिज को मुंबई के अंधेरी वेस्ट इलाके में उसकी बिल्डिंग के बाहर करमजीत द्वारा गांजा पहुंचाया जाता था. इस साल मई से जुलाई के बीच एक दर्जन से अधिक बार क्षितिज को गांजा दिया गया और हर बार 50 ग्राम गांजे के लिए साढ़े तीन हजार रुपये का भुगतान हुआ.

सूत्र ने यह भी बताया कि एजेंसी यह जांच कर रही है कि क्या क्षितिज ने गांजे की सप्लाई बॉलीवुड में किसी अन्य व्यक्ति को भी की है. क्षितिज की एक खरीददार के तौर पर लेन-देन करने का संबंध इस मामले में एक अन्य आरोपी अनुज केशवानी के साथ भी सामने आया है. इस आरोपी से एजेंसी ने विभिन्न प्रकार की ड्रग्स व्यवसायिक मात्रा में जब्त की थीं. इस बात का उल्लेख एनसीबी ने मुंबई की एक अदालत में अपनी रिमांड कॉपी में किया है.

3 अक्टूबर तक के लिए एनसीबी की हिरासत में

शहर की अदालत ने रविवार को क्षितिज को 3 अक्टूबर तक के लिए एनसीबी की हिरासत में भेज दिया है. वहीं केशवानी पहले से ही न्यायिक हिरासत में है. बात दें कि एजेंसी इस मामले में अब तक 20 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button