इंद्रावती खतरे का निशान से ऊपर, बस्तर में खतरे की घंटी

जगदलपुर: बस्तर जिले की जीवन दायिनी नदी इंद्रावती का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है सोमवार देर शाम ओडिशा के खातिगुड़ा डेम के तीन दरवाजे खोल दिया गया था लेकिन मंगलवार सुबह साढ़े 8 बजे सभी दरवाजे बंद कर दिये गये हंै। इलाके में आज बीजीडी के कई कार्यक्रम तय है जिसे देखते हुए डेम प्रबन्धन से गेट बंद करने का अनुरोध किया गया था। मगर तब तक डेम से होकर गुजरने वाले नदी नालो में जल स्तर बढ़ गया।

सबरी नदी उफान पर
इंद्रावती नदी में सुबह 8 बजे 7.5 मीटर पर जल स्तर बढ़ गया और लगतार नदी में पानी बढ़ रहा है। जोरा नाला से होकर सबरी में जा रही पानी की वजह से सबरी भी उफान पर है मौसम विभाग द्वारा जारी चेतवानी के बाद हालांकि बस्तर संभाग में अलर्ट जारी किया गया है मगर लगातार बारिश होने के चलते जंगली नालों का पानी सड़कों और गांव, बस्ती में भरने से जन जीवन प्रभावित हुआ है।

सबसे ज्यादा असर बीजापुर जिले में
सबसे ज्यादा असर बीजापुर जिले में हुई है यहाँ के भोपालपटनम इलाका बाढ़ से काफी प्रभावित हुआ है जिले में बहने वाली इंद्रवती नदी ने अपना रौद्र रूप दिखाया जिसके चलते पक्की सड़कें दरक गई हैं, वहीं 15 सौ एकड़ में फैली फसल पूरी तरह से तबाह हो गई है अब तक कई मवेशी बह गए हैं तो बाढ़ की वजह से महिला समेत 2 बच्चों की मौत हो गई है। जिला प्रशासन ने इन इलाकों को अभी भी अलर्ट पर रखा है ।

Back to top button