राजनीति की सड़क निर्माण कार्य शुरू, 5 वर्ष पूर्व हुआ था डामरीकरण

राज शार्दुल :

कोण्डागांव :

काफी इंतजार के बाद जिले की बहुचर्चित सड़क का निर्माण अब शुरू हो चुका है। इस सड़क से जहां तत्कालीन कांग्रेस विधायक संतराम नेताम ने लोकप्रियता हासिल करने की कोशिश की थी वहीं मामले में भाजपा की अच्छी खासी किरकिरी भी हुई थी विश्रामपुरी से बढ़ बत्तर के बीच 25 किलोमीटर की डामरी कृत सड़क का निर्माण पीएमजीएस वाई के तहत लगभग 5 वर्ष पूर्व हुआ था ।

सड़क निर्माण में हुआ था भ्रष्टाचार

प्रधानमंत्री सड़क योजना के द्वारा निर्मित इस सड़क में ठेकेदार ने लापरवाही एवं भ्रष्टाचार की हदें पार कर दी थी जिससे साल भर के अंदर ही सड़क में गड्ढे ही गड्ढे बन गए थे तथा सड़क पर आने जाने वाले लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा ।

धीरे-धीरे सड़क की हालत यह हो गई कि डामर गायब हो चुका था और पीचिंग सही नहीं होने से गिट्टी भी जगह-जगह से उखड़ चुकी थी। गारंटी पीरियड में होने के बावजूद एक बार भी मरम्मत नहीं किया गया मरम्मत के लिए आने वाली राशि एवं ठेकेदार के खाते में मरम्मत के नाम पर बची राशि का क्या हुआ इसका भी किसी को कोई पता नहीं चला तथा विभाग भी अब तक किसी को सही सही जवाब नहीं दिया ।

सड़क में लापरवाही को लेकर जनप्रतिनिधियों ने भी खूब आवाज उठाई थी तथा विभाग को कई बार शिकायत की गई थी किंतु किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं हुई थी तत्पश्चात विधानसभा चुनाव से लगभग 6 माह पूर्व विधायक संतराम नेताम ने श्रमदान करके सड़क पर मुरम डालने का कार्य किया था कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भी उनका खूब साथ दिया था ।

इससे उनको लोकप्रियता हासिल होने की उम्मीद थी किंतु चुनाव से पूर्व ही क्षेत्र की जनता ने उस सड़क के मुद्दे को ही भुला दिया ।वही ग्रामीणों के मुताबिक संतराम नेताम के समर्थक कांग्रेसियों ने सड़क पर जो मुरम डाला था मूरम की जगह में मिट्टी डाल दिया था जिससे वह धूल में तब्दील हो गई जिससे राहगीरों को पहले से ज्यादा परेशानी झेलना पड़ा तथा सड़क पर धूल ही धूल दिखाई देती थी

प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत यह पहला मामला था जिसकी चर्चा क्षेत्र में सबसे ज्यादा तो हुई बल्कि राजधानी तक गूंज उठी विधायक के द्वारा श्रमदान कर सड़क निर्माण किया गया जो सप्ताह भर तक चला था जिससे मामले की चर्चा होना भी स्वाभाविक था ।

भाजपा के लोग उस वक्त चुप बैठे रहे ।लेकिन सड़क का तत्काल निर्माण करने की योजना भाजपा ने तब ही बना डाली तथा एस्टीमेट तैयार कर टेंडर लगाया गया और सड़क का निर्माण अब शुरू भी हो चुका है। जहां कांग्रेस ने इस सड़क पर श्रमदान करके लोकप्रियता हासिल करने की कोशिश की थी वहीं भाजपा ने भी पूरी ताकत लगाकर सड़क निर्माण की मंजूरी करा कर लोगों में अपनी पैठ बनाने की कोशिश की ।

इस बार भी गुणवत्ता पर संशय

पीएमजीएसवाई की सड़क का निर्माण शुरू तो हुआ है परंतु अभी से यह सवाल उठ रहा है इस बार यह सड़क गुणवत्तापूर्ण बनेगा या फिर इसका भी वही हश्र होगा जो पूर्व में हुआ था। इस समय यहां यह सवाल उठना भी इसलिए लाजिमी है क्योंकि सड़क में अनेक मापदंडों का पालन करते नहीं दिखाई दे रहा है लागत राशि इत्यादि को दर्शाने वाला सूचना फलक तो यहां लगा ही नहीं है ।

विभाग का कोई अधिकारी यहां मॉनिटरिंग करते हुए भी दिखाई नहीं देता। इंजीनियर के बिना ही यहां काम चलते रहता है जिससे ठेकेदार के लोग मनमानी तरीके से कार्य कर रहे हैं इस स्थिति में इस सड़क का इस समय भी कोई माई बाप दिखाई नहीं दे रहा है।

गुणवत्तायुक्त सड क का निर्माण होगा–ई ई

विभाग के कार्यपालन अभियंता कोण्डा गांव रमेश कुमार गर्ग ने बताया कि सड़क की लागत ₹9करोड़ से ज्यादा है जिसका निर्माण अब शुरू हो चुका है तथा समय अवधि में सड़क बन कर तैयार हो जाएगा ।श्री गर्ग ने यह भी कहा कि वास्तव में यह सड़क बहुचर्चित रहा है लेकिन सड़क का राजनीति से कोई वास्ता नहीं है । सड़क पर अच्छा कार्य हो और इस पर किसी प्रकार की शिकायत ना हो ऐसा निर्देश दिया गया है।

Back to top button