सड़क ठेकेदार लगा रहा था शासन को चूना, तहसीलदार ने की कार्यवाही

हितेश दीक्षित:

छुरा: मजदूरों के उत्थान और उनका पलायन रोकने के उद्देश्य से मनरेगा जैसी योजनाओं की शुरुआत हुई, लेकिन जिले में इस योजना को जमकर पलीता लगाया जा रहा है। विकासखंड छुरा अंतर्गत ग्राम पंचायत कोसंमबुड़ा के आश्रित ग्राम खुसरूपाली के दूर्गा तालाब जिसका गहरीकरण कार्य मनरेगा के तहत पाँच लाख रुपये स्वीकृत हुआ है, जिसका मजदूरी भुगतान सूची (मस्टररोल) पाने और काम शुरू करने हेतु सरपंच उमेंद्र सिंह सोरी द्वारा जनपद कार्यालय में आवेदन प्रस्तुत किया जा चुका है।

सड़क निर्माण कार्य मे कर रहा था मुरम का उपयोग

किन्तु सड़क ठेकेदार गणेश प्रसाद खेतान के मुनिमो से मिलीभगत कर कुछ स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने दुर्गा तालाब का निर्माण मजदूरों की जगह मशीनों से करना शुरू कर दिया था। और तालाब से निकलने वाली मुरम को ठेकेदार अपने सड़क निर्माण कार्य मे कर रहा था।

मशीनों का उपयोग मनरेगा के कार्यों में प्रतिबंधित

क्षेत्र में पंचायत प्रतिनिधियों के हौंसले इतने बुलंद हैं कि दिनदहाड़े अब यह काम मशीनों से कराए जा रहा है। जबकि मशीनों का उपयोग मनरेगा के कार्यों में प्रतिबंधित है। मनरेगा योजना के तहत जनपद के माध्यम से तालाब गहरीकरण कार्य को कराया जाना था, लेकिन कुछ लालची जनप्रतिनिधियों के साथ मिलकर सड़क ठेकेदार ग्राम पंचायत कोसमबुडा के आश्रित ग्राम खुसरू पाली के दुर्गा तालाब के गहरीकरण कार्य में घफ़लती हो रही है।।

जिसकी मानीटरिंग न सिर्फ रोजगार सहायक, पंचायत सचिव को करना है बल्कि इंजीनियरों को भी नियमित इन कामों को देखने जाना है। वहीं सीईओ जनपद हो या जिला पंचायत इनको भी समय-समय पर कामों का निरीक्षण करना है।

गणेश प्रसाद खेतान को मिलासड़क निर्माण करने का ठेका

बताना लाजमी होगा कि दुर्गा तालाब से निकलने वाली मुरम का उपयोग फिंगेश्वर से छुरा तक निर्मित होने वाली सडक पर किया जा रहा था। सड़क निर्माण करने का ठेका गणेश प्रसाद खेतान को मिला है, जो कि खनिज विभाग से खनन और परिवहन की अनुमति लिए बिना ही धड्ल्ले से फिंगेश्वर से छुरा तक के दर्जनों गांवो के तथाकथित प्रमुखों से मिलीभगत कर सरकारी और निजी जमीनों में खुदाई कर चोरी की।

इसी मुरम को सड़क निर्माण के उपयोग में लाया जा रहा है। खनिज विभाग की कार्रवाई से बचने के लिये ग्रामो के तथाकथित नेताओं की सेवा कर ठेकेदार ने अब तक लाखो रुपयों का शासन को चूना लगाया है। फिंगेश्वर से छुरा तक 28 किलोमीटर का सड़क निर्माण कार्य जिसकी लगत 49 करोड़ है जिसका निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है।

माइनिंग एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर माईनिंग विभाग को सौंपा

इस बीच सड़क पर मुरम डालने के लिए ठेकेदार खेतान सरकारी और निजी जमीनों पर ग्रामो के तथाकथित प्रतिनिधियों को अपने साथ मिलाकर अवैध खनन करता रहा। इसी तरह जिन क्षेत्र में सड़क निर्माण चल रहा है, वहां पर भी इसी तरह की मनमानी सामने आ रही है। जिसपर तहसीलदार द्वारा मौके पर जाकर कार्यवाही करते हुये एक हाइवा ट्रक समेत एक चैन माउंटेन मशीन जप्त कर माइनिंग एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर माईनिंग विभाग को सौंप दिया गया है।

इस संबंध नारद सिंह मांझी मुख्यकार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत छुरा से पक्ष जानने हेतु चार बार फ़ोन किया गया किंतु उन्होंने फ़ोन नही उठाया।

दुर्गा तालाब का गहरीकरण कार्य मनरेगा के तहत कराया जाना है जिसकी स्वीकृत राशि पांच लाख है और शुक्रवार के दिन में अपने निजी कार्य से बाहर गया हुआ था और ठेकेदार ने मेरी पंचायत में मुरम चोरी किया है जिस पर तहसीलदार जी ने कार्यवाही की हैं जो कि सहरानीय है।कौन स्थानीय व्यक्ति द्वारा ठेकेदार से मिलकर ये गैर कानूनी कार्य किया है इसकी जानकारी लेता हूँ और पंचायत की बैठक में ग्रमीणों के समक्ष बात रखूँगा मैं मनरेगा के मजदूरों के अधिकारों का हनन नही होने दूंगा। : उमेन्द्र सिंह सोरी सरपंच ग्राम पंचायत कोसमबुडा

Back to top button