अंतर्राष्ट्रीय

म्यांमार सरकार से बातचूीत को तैयार रोहिंग्या विद्रोही

म्यांमार के प्राधिकारियों द्वारा आंतकी संगठन के रूप में वर्गीकृत अराकन रोहिंग्या विद्रोहियों ( ARSA) ने शनिवार को कहा कि वह सरकार के साथ बातचीत के लिए तैयार हैं। ARSA विद्रोही अगस्त माह में रखाइन क्षेत्र में सरकारी चौकियों पर बहुसंख्यक हमले के पीछे थे, जो क्षेत्र में सेना की हिसक कार्रवाई और नतीजन हजारों रोहिंग्याओं के विस्थापन का कारण बने।

सोशल मीडिया पर समूह द्वारा जारी एक बयान में कहा गया, अगर किसी भी चरण पर म्यांमार सरकार शांति के लिए झुकती है तो एआरएसए इस झुकाव का स्वागत करेगा और उस पर विनिमय करेगा। ARSA ने यह भी कहा कि सितंबर महीने में युद्धविराम के बाद क्षेत्र में मानवतावादी सहायता पहुंचने के सिलसिले का अंत सोमवार को हो जाएगा।

उन्होंने म्यांमार के अधिकारियों पर आरोप लगाया कि यह राखिने में सहायता को रोकने के लिए किया जा रहा है।

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, 25 अगस्त के बाद से करीब 515,000 रोहिंग्या लोग भागकर बांग्लादेश जा चुके हैं। ARSA ने रखाइन में 9 अक्तूबर, 2016 को सरकारी चौकियों पर हुए हमले की जिम्मेदारी ली है। इसी हमले ने राखिने में सेना को पहली हिंसक कार्रवाई के लिए प्रेरित किया था।

Summary
Review Date
Reviewed Item
संयुक्त राष्ट्र
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *