क्रिकेटखेल

प्रेस कांफ्रेंस में फूट-फूटकर रोए वाॅर्नर, मांगी माफ़ी

सिडनी : बाॅल टेंपरिंग मामले में दोषी पाए गए आस्ट्रेलिया टीम के पूर्व उपकप्तान डेविड वार्नर ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस के दौरान बॉल टेंपरिंग प्रकरण के लिए माफ़ी मांगी और कहा की शायद अब वो कभी ऑस्ट्रेलिया के लिए नहीं खेल पाएंगे। और यह अहसास उनके लिए दर्दनाक है। दक्षिण अफ्रीका दौरे से स्वदेश लौटने के बाद वार्नर ने प्रेस कांफ्रेंस में लिखी हुई माफ़ीनामा पढ़ा। वार्नर ने कहा मुझे इस बात का अहसास है कि वो अब कभी ऑस्ट्रेलिया के लिए नहीं खेल पाएंगे। उन्होंने ने बार बार कहा, की मैं पुरे विवाद की ज़िम्मेदारी लेता हूँ।

वार्नर ने कहा मरते दम तक पछतावा रहेगा

बाएं हाथ के खिलाडी ने हालांकि मीडिया के सवालों का कोई जवाब नहीं दिया और न ही इसकी पुष्टि की आखिर ऐसी घटनाएं पहले भी हुई हैं या नहीं, इसके जवाब में उन्होंने दोहराया, ”मैं ईमानदारी से कह सकता हूं कि मैं देश का क्रिकेट के जरिए केवल सम्मान बढ़ाना चाहता था। मैंने इसके प्रयास में ऐसा निर्णय ले लिया जिसके उलट परिणाम हुए और मैं निश्चित ही मरते दम तक इसके लिए पछतावा महसूस करूंगा।” इससे पहले स्मिथ और बेनक्राफ्ट ने भी स्वदेश लौटने पर गुरूवार को मीडिया को संबोधित किया और माफी मांगी। स्मिथ भी इस फैसले के बारे में सोचते हुए फूट फूट कर रो पड़े थे। तीनों खिलाड़ियों को सीए ने दक्षिण अफ्रीका से तुरंत स्वदेश बुला लिया था जहां जोहानसबर्ग में नए कप्तान टिम पेन के नेतृत्व में आस्ट्रेलियाई टीम आखिरी टेस्ट खेल रही है।

मुख्य साजिशकर्ता आरोपी माने गए हैं वाॅर्नर

दक्षिण अफ्रीका दौरे में तीसरे केपटाउन टेस्ट के दौरान कप्तान स्टीवन स्मिथ और उपकप्तान वार्नर ने गेंद का व्यवहार बदलने की योजना बनाई और कैमरन बेनक्राफ्ट ने सैंडपेपर का इस्तेमाल करते हुये इस योजना को मैदान पर लागू किया जो कैमरों की नजर में आ गई। क्रिकेट की वैश्विक संस्था अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद(आईसीसी) ने भले ही वार्नर को इस मामले में कोई सकाा नहीं दी हो लेकिन क्रिकेट आस्ट्रेलिया(सीए) ने उन्हें और स्मिथ को एक एक वर्ष के लिए निलंबित कर दिया है, वहीं इस योजना के मुख्य साजिशकर्ता रहे वार्नर पर आजीवन आस्ट्रेलियाई टीम का कप्तान बनाए जाने से भी प्रतिबंध लगा दिया गया है।

5 अप्रैल तक कर सकते हैं अपील

खिलाड़ियों के अलावा ऑस्ट्रेलिया टीम के कोच डैरेन लेहमैन ने भी अपने पद से इस्तीफे की घोषणा की है और जोहानसबर्ग में चौथे टेस्ट की समाप्ति के साथ ही वह अपना पद छोड़ देंगे। हालांकि सीए ने इस मामले में उन्हें क्लीन चिट दी है। सीए के कड़े फैसले के खिलाफ अपील के सवाल पर वार्नर ने कहा, ”इस बारे में मैं अपने परिवार के साथ बैठकर चर्चा करूंगा। किसी भी निर्णय पर पहुंचने से पहले मैं सभी पक्षों की समीक्षा करूंगा।” रिपोर्ट के अनुसार माना जा रहा है कि 25 वर्षीय बेनक्राफ्ट इस फैसले के खिलाफ कानूनी अपील कर सकते हैं। इन खिलाड़ियों के पास फैसले के खिलाफ अपील करने का समय वीरवार तक ही है।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.